देवगौड़ा को लेकर भाजपा और कांग्रेस दोनों सस्‍पेंस में

नई दिल्ली। कर्नाटक की चुनावी जंग में संभावित 'किंगमेकर' माने जा रहे जनता दल सेक्युलर (जेडीएस) के चीफ और पूर्व पीएम देवगौड़ा ने दोनों मुख्य विपक्षी पार्टियों, कांग्रेस और बीजेपी को सस्पेंस में डाला हुआ है। पीएम नरेंद्र मोदी ने अपनी पिछली रैली में राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए देवगौड़ा की तारीफ की तो जवाब में देवगौड़ा ने भी पीएम को स्मार्ट बताते हुए कहा कि वह कर्नाटक को समझते हैं।
बीजेपी इससे ज्यादा खुश होती, इससे पहले ही देवगौड़ा ने साफ कर दिया कि उनकी तारीफ शिष्टाचार का हिस्सा है। इस बीच अब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का बयान आया है। उन्होंने सवाल किया है कि देवगौड़ा कर्नाटक को बताएं कि वह किसके साथ हैं।
दरअसल, मंगलवार को अपनी रैली में पीएम मोदी ने राहुल गांधी पर देवगौड़ा के अपमान का आरोप लगाते हुए पूर्व पीएम की तारीफ की थी। इसके बाद एक अखबार को दिए इंटरव्यू में राहुल गांधी ने कहा, 'मैंने देवगौड़ा पर कोई हमला नहीं किया। देवगौड़ा हमारे देश के प्रधानमंत्री रह चुके हैं। मैंने व्यक्तिगत रूप से उन पर कोई हमला नहीं किया है। मैंने एक साधारण बयान दिया था। कर्नाटक में असली लड़ाई बीजेपी विचारधारा और कांग्रेस विचारधारा के बीच है। देवगौड़ा को इस बारे में स्पष्ट होना होगा। उन्हें कर्नाटक के लोगों को बताना होगा कि वह इस तरफ हैं या उस तरफ।'
पीएम नरेंद्र मोदी ने उस रैली के दौरान पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा की जमकर तारीफ की थी। मोदी ने कहा था कि जेडीएस सुप्रीमो एचडी देवगौड़ा को अपमानित करना उनके ‘अहंकार’ को दर्शाता है। मोदी ने कहा था, 'कांग्रेस अध्यक्ष ने 15-20 दिन पहले राजनीतिक रैली में जो कहा, वह मैंने सुना…जिस तरह से उन्होंने देवगौड़ा जी के बारे में बात की…क्या यही आपके संस्कार हैं? यह तो अहंकार है।'
इसके बाद देवगौड़ा ने कहा 'सिद्धारमैया कैसे कर्नाटक के लोगों का अपमान करते हैं यह बताने के लिए पीएम ने मेरा जिक्र किया था, इसका यह मतलब बिल्कुल नहीं है कि हमारी पार्टियों के बीच किसी भी प्रकार का गठबंधन हुआ है।'
पूर्व पीएम ने कहा, 'बीजेपी और जेडीएस के बीच चुनाव बाद गठबंधन को लेकर चल रही खबरों में कोई सच्चाई नहीं है।' देवगौड़ा ने पीएम मोदी के प्रोत्साहित करने वाले व्यवहार की भी तारीफ की।
जेडीएस का रोल क्यों है खास
कर्नाटक की राजनीति में जेडीएस बेहद अहम भूमिका निभा सकती है। अभी तक हुए चुनावी सर्वे में किसी भी पार्टी को स्पष्ट बहुमत मिलता नहीं दिख रहा है। ऐसे में कुमारास्वामी के नेतृत्व वाली जेडीएस कर्नाटक की राजनीति में किंगमेकर की भूमिका निभा सकती है। हालांकि जेडीएस के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार एचडी कुमारास्वामी एक बयान में कह चुके हैं कि वह किंग मेकर नहीं बल्कि किंग ही बनेंगे।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *