‘नेताजी’ के जन्‍मदिन को ‘पराक्रम दिवस’ के रूप में मनाएगी बीजेपी

कोलकाता। पश्चिम बंगाल के चुनाव में ममता बनर्जी को पटखनी देने की कोशिश कर रही बीजेपी ने अब प्रतीकों और महापुरुषों के नाम पर सियासी दांवपेच शुरू कर दिए हैं।
पश्चिम बंगाल के सपूत और आजाद हिंद फौज के संस्थापक नेताजी सुभाष चंद्र बोस के नाम पर बीजेपी ने अब उनके जन्मदिन 23 जनवरी को ‘पराक्रम दिवस’ के रूप में मनाने का फैसला किया है।
भारत सरकार के संस्कृति मंत्रालय की ओर से इस संबंध में एक राजपत्र जारी करते हुए कहा गया है कि इस वर्ष नेताजी सुभाष चंद्र बोस का 125वां जन्मदिन मनाया जाना है। नेताजी की अदम्य भावना और राष्ट्र के लिए उनके नि:स्वार्थ सेवा के सम्मान में भारत सरकार ने हर साल 23 जनवरी को उनके जन्मदिन को पराक्रम दिवस के रूप में मनाने का फैसला किया है।
सरकार ने नोटिफिकेशन में ये बात
सरकार ने अपने नोटिफिकेशन में कहा है कि ऐसा करने लोगों, विशेषकर युवाओं को विपत्ति का सामना करने के लिए नेताजी के जीवन से प्रेरणा मिलेगी और उनमें देशभक्ति एवं साहस की भावना समाहित होगी।
चुनाव से पहले बड़ा फैसला
बता दें कि केंद्र सरकार के इस कदम को पश्चिम बंगाल चुनाव में लोगों को लुभाने की कोशिश के रूप में देखा जा रहा है। पश्चिम बंगाल के चुनाव में बीजेपी और टीएमसी के बीच चुनावी मुकाबला है और दोनों ही दलों ने चुनाव के लिए सारी ताकत झोंक दी है। राज्य में अप्रैल-मई 2021 के वक्त विधानसभा चुनाव संभावित हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *