बीजेपी नेता प्रलय पाल का दावा, नंदीग्राम में जीत के लिए ममता बनर्जी ने मांगी मदद

नंदीग्राम। पश्चिम बंगाल में नंदीग्राम सीट से चुनाव लड़ रहीं ममता बनर्जी को क्या अपनी जीत का पूरा भरोसा नहीं है? यह सवाल भारतीय जनता पार्टी टीएमसी से इसलिए पूछ रही है क्योंकि बीजेपी के एक नेता ने शनिवार को सनसनीखेज दावा किया कि सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस की मुखिया ने खुद उन्हें फोन करके मदद मांगी। शुभेंदु अधिकारी के सहयोगी प्रलय पाल ने कॉल रिकॉर्डिंग भी जारी की है, जिसमें ममता बनर्जी उनसे यह सीट जितवाने को कह रही हैं।
बीजेपी के आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने भी वीडियो जारी करके ममता बनर्जी पर निशाना साधा है और कहा है कि दीदी नंदीग्राम से चुनाव हार रही हैं। बीजेपी नेता प्रलय पाल ने शनिवार सुबह दावा किया कि ममता बनर्जी ने खुद उन्हें फोन किया और टीएमसी को नंदीग्राम में जितवाने में मदद मांगी। सोशल मीडिया पर दोनों के बीच हुई बातचीत का कथित ऑडियो बी वायरल हो रहा है।
हालांकि, टीएमसी ने दावा किया है कि कॉल रिकॉर्डिंग की आवाज की सत्यता की पुष्टि नहीं हुई है। प्रलय पाल ने कहा, ”वह चाती हैं कि मैं टीएमसी के लिए काम करूं और टीएमसी में लौट जाऊं। लेकिन मैं शुभेंदु अधिकारी और अधिकारी परिवार से लंबे समय से जुड़ा हुआ हूं। अब मैं भारतीय जनता पार्टी के लिए काम कर रहा हूं।” वीडियो में वह आगे कहते हैं, ”लेफ्ट शासन के दौरान जब सीपीआई (एम) नंदीग्राम के लोगों को प्रताड़ित करती थी तो अधिकारी परिवार हमारे साथ खड़ा रहा। मैं कभी उनके खिलाफ नहीं गया और ना यह करूंगा।”
बीजेपी नेता ने कहा कि उन्होंने ममता बनर्जी को बता दिया कि टीएमसी ने नंदीग्राम के लोगों को कभी उनका अधिकार नहीं दिया और वह बीजेपी की सेवा करते रहेंगे। कथित बातचीत का ऑडियो अमित मालवीय ने भी ट्विटर पर साझा किया है। उन्होंने लिखा, ”बड़ी बात! ममता बनर्जी ने नंदीग्राम में बीजेपी के जिला उपाध्यक्ष प्रलय पाल को फोन किया और उनसे मदद की गुहार लगाई। प्रलय ने उन्हें बताया कि टीएमसी में उन्हें अपमानित किया गया वह और उनका परिवार कबी बीजेपी को धोखा नहीं देगा। पीसी निश्चित रूप से नंदीग्राम में हार रही हैं और बंगाल में टीएमसी।
गौरतलब है कि इस बार ममता बनर्जी नंदीग्राम से चुनाव लड़ रही हैं। यहां उनके खिलाफ उनके ही पूर्व सहयोगी शुभेंदु अधिकारी चुनावी मैदान में हैं। दोनों के बीच कड़ी टक्कर बताई जा रही है।
मतुआ समुदाय से मिले मोदी, तो ममता भड़की
पश्चिम बंगाल में पहले चरण के मतदान के बीच पीएम नरेंद्र मोदी बांग्लादेश के दौरे पर हैं और शनिवार को उन्होंने यहां मतुआ समुदाय के मंदिर गए और लोगों से बातचीत की है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को यह नागवार गुजरा है। ममता ने इसे आचार सहिंता का स्पष्ट उल्लंघन बताया है। ममता बनर्जी ने खड़गपुर में एक रैली में कहा, ”यहां मतदान चल रहा है और वह (पीएम) बांग्लादेश जाते हैं और बंगाल पर भाषण दे रहे हैं। यह चुनावी आचार संहिता का उल्लंघन है।” उन्होंने यह भी कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव में टीएमसी के रैली में आए बांग्लादेश के एक्टर का वीजा कैंसल कर दिया गया था तो पीएम का वीजा और पासपोर्ट क्यों ना कैंसल कर दिया जाए।
ममता बनर्जी ने कहा, ”2019 के लोकसभा चुनाव में हमारी एक रैली में बांग्लादेश के एक्टर आए थे, ये बीजेपी के लोग बांग्लादेश जाकर वहां की सरकार से शिकायत की, भारत सरकार ने उसका वीजा कैंसल कर दिया। अगर एक फिल्म स्टार हमारी रैली में एक बात किया तो आपने उसका वीजा छीन लिया और आज अगर प्रधानमंत्री वोट के लिए विदेश में जाकर बात करते हैं, उन लोगों (मतुआ) को लेकर जो वोट से संबंधित हैं तो क्या होता है… पहले तो जाकर ट्रंप का समर्थन किया था। आपने बांग्लादेश में जाकर झूठी बात कर रहे हैं तो आपका वीजा पासपोर्ट क्यों ना कैंसल कर दिया जाए। मैं चुनाव आयोग से शिकायत करूंगी।”
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *