बीजेपी ने राहुल गांधी के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का नोटिस दिया

नई दिल्ली। राफेल डील पर सोमवार को संसद में जमकर हंगामा हुआ। सत्तारूढ़ बीजेपी और प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस ने एक दूसरे पर संसद को गुमराह करने का आरोप लगाया। बीजेपी के 4 लोकसभा सांसदों ने तो कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का नोटिस दे दिया। फिलहाल, स्पीकर सुमित्रा महाजन इस नोटिस की जांच कर रही हैं। उन्होंने कहा कि वह इसे देखने के बाद फैसला करेंगी।
उधर, राफेल विमान सौदे पर कांग्रेस पार्टी भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का नोटिस देने की तैयारी कर रही है। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री ने राफेल सौदे पर संसद को गुमराह किया है, ऐसे में यह स्पष्टतौर पर विशेषाधिकार हनन का मामला है।
राहुल पर सदन को गुमराह करने का आरोप
बीजेपी के 4 सांसदों- निशिकांत दुबे, अनुराग ठाकुर, दुष्यंत सिंह और प्रहलाद जोशी ने राहुल गांधी के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का नोटिस दिया है। इन सांसदों ने कांग्रेस अध्यक्ष पर संसद को गुमराह करने का आरोप लगाया है। बीजेपी सांसदों का कहना है कि गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण के खिलाफ ‘झूठे’ आरोप लगाकर सदन को ‘गुमराह’ किया है।
प्रश्न काल के समाप्त होते ही दुबे ने कहा कि उनके द्वारा विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव लाया गया है। उन्होंने कहा, ‘राहुल गांधी जब भी बोलते हैं तो बीजेपी को अपने वोटों में इजाफा करने में मददगार होता है।’ कांग्रेस सांसदों के विरोध के बीच स्पीकर सुमित्रा महाजन ने कहा, ‘मैं इसे देखूंगी और उसके बाद आपको बताऊंगी।’
कांग्रेस बोली, पीएम और रक्षा मंत्री ने किया गुमराह
कांग्रेस ने प्रधानमंत्री मोदी और रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण पर संसद को गुमराह करने का आरोप लगाया है। कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने संसद से बाहर पत्रकारों से बातचीत में कहा, ‘पीएम और रक्षा मंत्री ने संसद को गुमराह किया। फ्रांस सरकार द्वारा जारी किए गए बयान में सिक्यॉरिटी, डिफेंस और ऑपरेशनल क्षमता से जुड़ी सूचनाओं को गोपनीय बताया गया है। उसमें कहीं भी कीमत का जिक्र नहीं किया गया है। कीमत गोपनीयता समझौते के दायरे में नहीं आती है।’
एंटनी बोले, कीमतें नहीं छुपा सकती सरकार
उधर, पूर्व रक्षा मंत्री एके एंटनी ने कहा है कि सरकार राफेल सौदे की कीमतों को छुपा नहीं सकती है क्योंकि कैग और लोक लेखा समिति द्वारा उनकी जांच होनी है। उन्होंने कहा कि भारत-फ्रांस के बीच 2008 में हुए करार में यह कहीं नहीं है कि रक्षा सौदे से जुड़ी व्यावसायिक खरीदारी की कीमत का खुलासा नहीं किया जा सकता है। एंटनी ने दो टूक कहा कि राफेल सौदे में गोपनीयता प्रावधान का सरकार का दावा गलत है। उन्हें प्रत्येक विमान की कीमत का खुलासा करना होगा।
राहुल ने उठाया था राफेल डील का मुद्दा
राहुल गांधी के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का नोटिस शुक्रवार को विपक्ष के अविश्वास प्रस्ताव पर लोकसभा में बहस के दौरान उनके भाषण के लिए लाया गया है। अपने भाषण में कांग्रेस अध्यक्ष ने फ्रांस के साथ राफेल डील में सेक्रेसी क्लॉज का मुद्दा उठाया था। राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री पर मोदी पर इस डील से ‘एक उद्योगपति’ को फायदा पहुंचाने का भी आरोप लगाया था।
-एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *