बिन्नानी भाईपा ने GD बिन्नानी को द‍िया कोरोना कर्मवीर सम्मान

आजकल समाज के व‍िभ‍िन्न संगठन कोरोना में सफाईकर्मियों, अस्पताल कर्मियों, पैरा मिलिट्री, पुलिसकर्मियों, मीडियाकर्मियों, दानदाताओं और डॉक्टरों को कोरोना वॉरियर्स, कोरोना योद्धा या कोरोना कर्मवीर जैसे विभिन्न नामों से सम्मानित कर इन लोगों का मनोबल बढ़ा रहे हैं, इसी कड़ी में लेखक, कवि भी अपनी अपनी रचनाओं के माध्यम से समाज में कोरोना महामारी से बचाव हेतु जनजागरण में योगदान दे रहे हैं और विशेषज्ञों द्वारा बतायी गयी सावधानियाँ रोचक तरीके से जन मानस तक पहुंचा रहे हैं।

वैश्विक महामारी कोरोना काल में लेखकों के योगदान को समाज के सामने लाकर उन्हें सम्मानित करने की सोच के साथ बिन्नानी भाईपा (बिन्नानी पंचायती ट्रष्ट ) के अध्यक्ष सुशील कुमार बिन्नानी एवं सचिव सुरेश बिन्नानी द्वारा एक नयी पहल की गई है।

इसके अंतर्गत बीकानेर निवासी लेखक श्री गोवर्धन दास बिन्नानी “राजा बाबू” को कोऱना कर्मवीर सम्मान से नवाजा है क्योंकि इन्होंने कोरोना पर अनेकों बार बहुत कुछ सकारात्मकता से ओतप्रोत लिख समाज में जागरूकता फैलाने में योगदान दिया है।
प्रस्तुत है उनका कोरोना के प्रत‍ि जागरूक करता ये लेख –

कोरोना संक्रमण विकराल रूप धारण कर रहा है यह हम सभी के लिये बहुत ही चिन्ता का विषय है।आवश्यकता यही है कि इस बिमारी से बचने के लिये जो भी सावधानियाँ बतायी गयी हैं उसका हम कठोरतापूर्वक पालन करें । किस भी हालात में मास्क बिना न निकलें और सोशल डिस्टेन्सिंग यानि समाजिक दूरी के विषय में इस कॉलम के माध्यम जैसा पूर्व में बताया गया उसका भी अक्षरशः पालन करें।

जैसा सभी को मालूम ही है कि दूर्गापूजा, दशहरा फिर दीपावली त्यौहार आ रहे हैं और हम सब इन त्यौहारों पर पटाखे वगैरह फोड़ते हैं और पटाखों से निकलने वाली जहरीली गैस एक स्वस्थ आदमी तक के लिये नुकसानदायक होती है तो कोरोना संक्रमितों के लिये तो बहुत ज्यादा ही नुकसानदायक रहेगी ही। इसलिये हमें यह कोशिश करनी चाहिये ताकि इस महामारी में किसी भी जगह “होम क्वांरटीन” कर रहे मरीजों को इस जहरीली गैस से बचाया जा सके और कम से कम इस जहरीले धुंए की वजह से किसी भाई बहन की जान जोखिम में ना आए।

इस साल कोरोना महामारी को देखते हुए दीपावली पर पटाखे नहीं छोड़ें।
कोशिश यही करें कि अपने मोहल्ले में भी सबको समझाकर इस बार पटाखों से दूरी रखने का निवेदन करें।
इस महामारी में किसी भी जगह हमारे कारण “होम क्वांरटीन” कर रहे मरीजों को ये जहरीली गैस या पटाखों की आवाज़ से से किसी भी हालत में नुकसान नहीं पहुंचे।
ऐसा करके निश्चितरूप से हम हमारे अपने, पड़ोसी, गांव, शहर, देश के लिए एक बेहतरीन मिसाल कायम कर पायेंगे।
हम दुर्गापूजा, दशहरा और दीपावली अगली बार धूम धाम से मना लेंगे, मगर इस बार हमें जहरीले धुंए को शहर में भरने नहीं देना है और उन सभी कोरोना
संक्रमित मरीजों को बचाना है, जो जिन्दगी से संघर्ष कर रहे हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *