बिहार: लोकसभा चुनाव 2019 के लिए NDA में तय हुआ सीटों का बंटवारा

नई दिल्ली। बिहार में 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए NDA में सीटों का बंटवारा हो गया है। बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के आवास पर हुई बैठक के बाद बीजेपी-जेडीयू-एलजेपी की संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसकी घोषणा की गई है। इस बैठक में बिहार सीएम नीतीश कुमार, केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान और उनके बेटे सांसद चिराग पासवान भी मौजूद रहे। इस घोषणा के बाद शाह ने जहां 2019 में 2014 से ज्यादा सीटें जीतने का दावा किया, वहीं नीतीश कुमार ने कहा है कि NDA बिहार में 2009 से भी अधिक सीटें जीतेगी।
घर पर बैठक के बाद अमित शाह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि लंबी चर्चा के बाद तय हुआ है कि बीजेपी, जेडीयू 17-17 और एलजेपी 6 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ेगी। शाह ने कहा, ‘रामविलास पासवान को आगे आने वाले राज्यसभा चुनाव में NDA का प्रत्याशी बनाया जाएगा।’ बीजेपी अध्यक्ष ने कहाा, ‘NDA की गठबंधन की स्ट्रेंथ को देखकर तीनों पार्टियों ने फैसला लिया है। जल्द ही एनडीए का राजनीतिक अजेंडा लोगों के सामने लेकर जाएंगे।’
इसके बाद नीतीश कुमार ने कहा कि ‘जब अमित शाह ने घोषणा कर दी तो उसके बाद कुछ बोलने की आवश्यकता नहीं है तो हम सब मिलकर आगे तय करेंगे। किस सीट पर कौन लड़ेगा। आज सीट शेयरिंग तय हो गई है।’ बिहार सीएम ने कहा, ‘हम बिहार में अच्छी सफलता हासिल करेंगे। मुझे जरूरत से ज्यादा बोलने की आदत नहीं है। 2009 में बिहार में बीजेपी और जेडीयू का गठबंधन था, बिहार में 40 में से 32 सीटें हमने हासिल की थीं। 2009 से भी ज्यादा सीटों पर जीतेंगे। हम लोग मिलकर सशक्त अभियान चलाएंगे।’
पासवान बोले, अब हमारे बीच सबकुछ सही
एनडीए में सीट शेयरिंग का फॉर्म्यूला तय हो जाने के बाद पासवान भी काफी सहज नजर आए। उन्होंने दावा किया कि गठबंधन पार्टियों के बीच सब-कुछ ठीक था और आगे भी रहेगा। हालांकि पिछले दिनों उनके बेटे चिराग पासवान ने सीट शेयरिंग को लेकर बीजेपी पर दबाव बनाया था। इसके बाद पासवान के एनडीए से निकलने की आशंका भी जताई जा रही थी।
रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में पासवान ने कहा कि ‘मैं बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, नीतीश कुमार और अरुण जेटली को बहुत बहुत धन्यवाद देना चाहता हूं। हमारे अंदर कभी कुछ गड़बड़ नहीं थी। अगली बार फिर मोदी के नेतृत्व में एनडीए की सरकार बनेगी। बिहार में 40 में से 40 सीटों का टारगेट है।’
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *