योगी सरकार का बड़ा फैसला: 27 मार्च तक पूरा प्रदेश लॉकडाउन

लखनऊ। कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए पूरे प्रदेश को लॉकडाउन करने का फैसला किया है। सूबे में अगले तीन दिन यानी 27 मार्च तक लॉकडाउन रहेगा।
इससे पहले रविवार को कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए यूपी सरकार ने सख्त कदम उठाते हुए राज्य के 16 जिलों में लॉकडाउन का फैसला किया था। लॉकडाउन के दौरान बेहद जरूरी काम और आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति करने वालों को ही घर से निकलने की इजाजत है। कोई भी शख्स बेवजह घर से बाहर मिला तो उसके खिलाफ धारा 188 और 271 के तहत कार्यवाही होगी।
रविवार को जिन जिलों में लॉकडाउन का लखनऊ, अलीगढ़, गौतमबुद्ध नगर (नोएडा), कानपुर, वाराणसी, मेरठ, आजमगढ़, गाजियाबाद, गोरखपुर, लखीमपुर खीरी, आगरा, प्रयागराज, सहारनपुर, बरेली, पीलीभीत, मुरादाबाद शामिल थे। इसके बाद सोमवार शाम को जौनपुर में कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलने के बाद उसे भी लॉकडाउन कर दिया गया था। मंगलवार दोपहर शामली जिले में भी लॉकडाउन का फैसला लेने के बाद सीएम योगी ने पूरे प्रदेश को लॉकडाउन का फैसला किया। सीएम योगी ने यह भी कहा कि अगर किसी जिले में कर्फ्यू की जरूरत पड़ी तो जिलाधिकारी इस पर फैसला ले सकते हैं।
लॉकडाउन में इन पर रोक नहीं
– चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, चिकित्सा शिक्षा विभाग, गृह एवं कारागार प्रशासन, कार्मिक विभाग, जिला प्रशासन, बिजली कार्यालय और बिलिंग सेंटर, आपदा एवं राहत, राज्य संपत्ति विभाग, सूचना व जनसंपर्क, सूचना प्रौद्योगिकी और अग्निशमन के कर्मचारी।
– फल, सब्जी, दूध, डेयरी, किराना और पानी की सप्लाई से जुड़े लोग
– सिविल डिफेंस, आपात कालीन सेवाएं और टेलिफोन, इंटरनेट और डेटा सेंटर सेवाओं से जुड़े लोग
– डाक सेवा, बैंक, एटीएम, बीमा कंपनी, ई-कॉमर्स की होम डिलिवरी से जुड़े लोग
– प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक और सोशल मीडिया
– पेट्रोल पंप, एलपीजी, ऑइल एजेंसी, दवा दुकान, चिकित्सा उपकरण, पशु चिकित्सालय एवं पशु आहार
क्या आप बाहर निकल सकेंगे?
आपातकालीन सेवाओं से जुड़े लोगों को छोड़कर सभी नागरिक घर में रहेंगे। टैक्सी, ऑटो रिक्शा सहित सभी सार्वजनिक परिवहन बंद रहेंगे। दवाएं, जरूरी खाद्य वस्तुओं को ले जाने वाले मालवाहक वाहन चलेंगे। एयरपोर्ट व रेलवे स्टेशन से घर जाने के लिए सीमित संख्या में प्रशासन से अधिकृत वाहन उपलब्ध रहेंगे।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *