बड़ी उपलब्‍धि: SAIL ने हासिल की SS 32205 स्टील विकसित करने की क्षमता

नई दिल्‍ली। मुम्बई के पास बाम्बे हाई में समुद्र के बीच में स्थित ओएनजीसी ONGC के कच्चे तेल के कुओं का फोटो तो आपने कभी न कभी जरूर देखा होगा। उसे बनाने के लिए विशेष ग्रेड के स्टेनलेस स्टील SS 32205 का आयात करना पड़ा था। अब इस तरह का कुआं बनाना पड़े तो इसके लिए विदेशों की ओर मुंह ताकने की आवश्यकता नहीं है। सरकारी कंपनी स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड के सेलम इस्पात संयंत्र ने SS 32205 ग्रेड का हाईली करोज़न रिज़िस्टन्ट सुपर डुप्लेक्स स्टेनलेस स्टील को यहीं विकसित करने की क्षमता हासिल कर ली है।
सेल अध्यक्ष ने बताया बड़ी सफलता
सेल के अध्यक्ष अनिल कुमार चौधरी का कहना है कि करोज़न रिज़िस्टन्ट स्टील के तकनीकी विकास के क्षेत्र में यह एक बड़ी सफलता है। सेल इस ग्रेड का स्टील विकसित करने वाले देश के चुनिन्दा इस्पात उत्पादकों में से एक हो गया है। अभी तक स्टेनलेस स्टील का यह ग्रेड मुख्य रूप से आयात किया जाता रहा है। यह सुपर डुप्लेक्स स्टेनलेस स्टील बेहद मजबूत और टिकाऊ होने के साथ ही हाईली करोज़न रिज़िस्टन्ट भी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत की तरफ यह उठा एक मजबूत कदम है।
कई तरह की औद्योगिक मशीनरी बनाने में होता है उपयोग
इसकी हाईली करोज़न रिज़िस्टन्ट विशेषताओं के कारण, इसका उपयोग करोज़न प्रभावित क्षेत्रों की विभिन्न जरूरतों और निर्माण जैसे केमिकल प्रोसेसिंग इक्विपमेंट (परिवहन और भंडारण, प्रेशर वेसेल्स, टैंक, पाइपिंग और हिट एक्सॉस्ट) में किया जा सकता है। तेल और गैस की खोज (प्रोसेस उपकरण, पाइप, ट्यूबिंग, समुद्री और अन्य उच्च क्लोराइड वातावरण), लुगदी और कागज उद्योग (डाइजेस्टर और ब्लीचिंग उपकरण) के लिए इसका विशेष रूप से आयात किया जाता रहा है। इसी के साथ खाद्य प्रसंस्करण उद्योग के उपकरण और जैव ईंधन संयंत्र में भी इसका प्रभावी तरीके से उपयोग किया जा सकता है क्योंकि इन सभी जरूरतों के लिए में हाईली करोज़न रिज़िस्टन्ट के साथ मजबूत स्टील की आवश्यकता होती है।
बेहद मजबूत होती है यह धातु
इस नए ग्रेड में करोज़न रिजिसटेन्स, मजबूती और टिकाऊपन जैसे बेहतर गुण स्टील में मौजूद क्रोमियम, मोलिब्डेनम और नाइट्रोजन से आते हैं। इस स्टेनलेस स्टील में दबाव सहन करने की उच्च शक्ति है, जो ऑस्टेनिटिक स्टील से करीब-करीब दुगनी है। यह इसी मजबूती के साथ पतले गेज में उपयोग करने के लिए लचीलापन या सहनशक्ति प्रदान करता है।
विशेष श्रेणी का स्टील बनाता है सलेम प्लांट
सलेम स्टील प्लांट का सेल का एक विशेष संयंत्र है, जो गुणवत्ता वाले स्टेनलेस स्टील के उत्पादन में माहिर है। सेलम स्टील प्लांट द्वारा विकसित यह नया ग्रेड औस्टेनाइटिक और फेरिटिक के औसतन समान अनुपात अनुपात के दो फेज की धातु संरचना है, जिसे जिसे बेहतर क्लोराइड स्ट्रेस कोरिज़न और क्लोराइड पीटिंग कोरिज़न प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *