अनिश्चितकालीन छुट्टी पर गए BHU के कुलपति

वाराणसी। पद से हटाए जाने की अटकलों के बीच बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) के कुलपति गिरीश चन्द्र त्रिपाठी अनिश्चितकालीन छुट्टी पर चले गए हैं। इसके लिए उन्होंने निजी कारणों का हवाला दिया है। गौर करने वाली बात यह है कि अभी पिछले हफ्ते ही गुरुवार को उन्होंने कहा था कि अगर मानव संसाधन मंत्रालय उन्हें छुट्टी पर जाने के लिए कहेगा तो वह इस्तीफा दे देंगे, लेकिन अब वह खुद ही ‘निजी’ कारणों से छुट्टी पर चले गए हैं।
विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने बताया कि कुलपति त्रिपाठी निजी कारणों का हवाला देकर छुट्टी पर चले गए हैं। जी. सी. त्रिपाठी का कार्यकाल महज दो महीने ही बचा है। वह 30 नवंबर को रिटायर होने वाले हैं और अब यह भी स्पष्ट हो गया है कि उन्हें दोबारा वीसी नहीं बनाया जाएगा। बीएचयू ने अपनी वेबसाइट पर नए कुलपति के लिए विज्ञापन भी जारी कर दिया है।
बता दें कि सुरक्षा की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहीं बीएचयू की छात्राओं पर पुलिस लाठीचार्ज के बाद से ही कुलपति जी. सी. त्रिपाठी आलोचनाओं के केंद्र में है। इस मामले के बाद जहां यूनिवर्सिटी के प्रॉक्टर को हटा दिया गया वहीं एचआरडी मिनिस्ट्री के सूत्रों के मुताबिक केंद्र सरकार पूरे मामले में कुलपति की भूमिका से नाराज थी। शनिवार को कुलपति त्रिपाठी का एक कथित ऑडियो भी सामने आया था जिसमें वह छात्राओं से बातचीत में अपनी गलती स्वीकार कर रहे हैं। जब एक छात्रा ने उनसे पूछा कि लड़कियों पर लाठीचार्ज क्यों हुआ तो इसके जवाब में वह यह कहते सुने गए कि गलती मुझसे भी हो सकती है, मुझे सच्चाई का पता नहीं था।
इससे पहले गुरुवार को जी. सी. त्रिपाठी ने कहा था कि अगर उन्हें छुट्टी पर भेजा गया तो वह इस्तीफा दे देंगे। उन्होंने कहा था, ‘एचआरडी मिनिस्ट्री ने अब तक मुझसे ऐसी कोई बात नहीं की है। छुट्टी पर जाने को कहा गया तो मैं इस्तीफा दे दूंगा। कार्यकाल समाप्त होने से दो माह पहले छुट्टी पर जाना अपमानजनक होगा।’
-एजेंसी