कोरोना काल के बाद ऑटोमोबाइल सेक्टर के लिए सबसे अच्छा वक्त

नई दिल्‍ली। भले ही कोरोना काल में और उसे पहले भी ऑटोमोबाइल सेक्टर की हालत बहुत खराब थी लेकिन अभी ऑटोमोबाइल सेक्टर के लिए सबसे अच्छा वक्त है। हालात ये हैं कि फैक्ट्रियां अपनी पूरी क्षमता के साथ काम कर रही हैं, लेकिन फिर भी उन्हें ग्राहकों की मांग को पूरा करने में दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। यानी जितनी भी गाड़ियां बन रही हैं, सब बिक जा रही हैं, उल्टा बहुत सारे लोगों को इंतजार तक करना पड़ रहा है। गाड़ियां बनाने और गाड़ियों के पार्ट बनाने वाली कंपनियों के लिए ये सबसे अच्छा मौका है। नतीजन कंपनियां अपने कर्चमारियों की सैलरी में कटौती के फैसले को तो वापस ले ही रही हैं, उल्टा उन्हें इन्क्रिमेंट भी दे रही हैं।
वित्त वर्ष 2020-21 शुरू होने के साथ ही बहुत सारी कंपनियों ने सैलरी कटौती का फैसला किया था। कोरोना की वजह से ऑटो कंपनियों का बिजनेस काफी गिर गया था। ऑटो की सेल्स अप्रैल-जून तिमाही में 75 फीसदी तक गिर गई थी क्योंकि कोरोना की वजह से लॉकडाउन लागू किया गया था लेकिन जुलाई-सितंबर तिमाही में ऑटो सेल्स में तगड़ी रिकवरी देखने को मिली। इसके बाद से कंपनियों ने अपने कर्मचारियों सैलरी और इनक्रिमेंट के जरिए अवॉर्ड देना शुरू कर दिया।
हुंडई में क्या हैं हालात?
भारत की दूसरी सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी हुंडई इसी साल फरवरी से अप्रेजल की प्रक्रिया शुरू कर देगी और अप्रैल से अप्रैल भी होने लगेंगे। कंपनी ने कहा है कि किसी भी स्तर पर किसी की भी सैलरी में कटौती नहीं की गई, बल्कि अगस्त महीने के दौरान तो लोगों की सैलरी बढ़ी थी।
बजाज ऑटो के बारे में भी जानिए
दोपहिया वाहन बनाने वाली दिग्गज कंपनी बजाज ऑटो ने कोरोना वायरस की वजह से स्टाफ के प्रमोशन रोक दिए थे। कंपनी ने कहा है कि कोरोना की वजह से किसी भी सैलरी नहीं काटी गई। लोगों को प्रमोशन को जरूर कुछ वक्त के लिए टाला गया था, लेकिन बाद में उन्हें इनक्रिमेंट के साथ प्रमोशन दे दिया गया। बोनस और इनक्रिमेंट साइकिल 1 अप्रैल से चलेगी।
जेके टायर में भी कटौती बंद
दिल्ली की टायर बनाने वाली कंपनी जेके टायर ने घोषणा की थी कि कंपनी के वरिष्ठ अधिकारियों ने खुद से ही अपनी सैलरी में 15 से 25 फीसदी की कटौती का फैसला किया था। चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर रघुपति सिंघानिया ने 25 फीसदी की कटौती की थी। अब सारी कटौतियां बंद हो गई हैं और सबको पूरी सैलरी मिल रही है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *