कुंभ 2019 के लिए अखाड़ों की पेशवाई शुरू

प्रयागराज। कुंभ की तैयारियों के बीच मंगलवार से अखाड़ों की पेशवाई शुरू हो गई है। मंगलवार को सबसे बड़े अखाड़े श्रीपंच दशनाम जूना अखाड़ा और श्रीपंच अग्नि अखाड़े की पेशवाई की शुरुआत हुई। जूना अखाड़े की पेशवाई में शामिल होने के लिए अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर अवधेशानंद गिरि प्रयागराज पहुंच चुके हैं। पेशवाई अखाड़े के शिविर मौज गिरि से सुबह 11 बजे शुरू हुई। इसमें बड़ी संख्या में अखाड़े के महामंडलेश्वर, महंत और संत शामिल हुए।
हाथी, घोड़े, ऊंट पेशवाई में शामिल
दर्जन भर घोड़े और कुछ हाथी व आधा दर्जन ऊंट पेशवाई में शामिल हुए। लाठी-डंडों के करतब, तलवारबाजी और रमता पंच के कलाकार पेशवाई की शोभा बढ़ा रहे हैं।
नागाओं के होंगे हैरतअंगेज करतब
नागाओं के हैरत अंगेज करतब भी यहां देखने को मिला। लाठी-डंडों के करतब, तलवारबाजी और रमता पंच के कलाकार अपने ढंग से पेशवाई की शोभा बढ़ा रहे हैं।
प्रमुख संत
आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि, पीठाधीश्वर, श्रीपंचदशनाम
जूना अखाड़ा
महंत हरिगिरि, संरक्षक जूना अखाड़ा.
जगद्गुरु स्वामी पंचानंद गिरि, पदाधिकारी, जूना अखाड़ा.
महामंडलेश्वर कैलाशानंद ब्रह्मचारी, श्रीपंच अग्नि अखाड़ा.
अखाड़ा धर्म ध्वजा पेशवाई
जूना अखाड़ा, अग्नि अखाड़ा 20 दिसंबर 25 दिसंबर
आह्ववन अखाड़ा 20 दिसंबर 27 दिसंबर
महानिर्वाणी अखाड़ा 27 दिसंबर एक जनवरी
निरंजनी अखाड़ा 28 दिसंबर दो जनवरी
आनंद अखाड़ा 28 दिसंबर 3 जनवरी
अटल अखाड़ा 27 दिसंबर 3 जनवरी
बड़ा उदासीन अखाड़ा 12 जनवरी 11 जनवरी
निर्मला अखाड़ा 4 जनवरी 13 जनवरी
नया उदासीन अखाड़ा 9 जनवरी 10 जनवरी
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »