BCCI के कोषाध्‍यक्ष बोले, मीडिया को बकवास लिखना बंद करना चाहिए

BCCI उन खबरों से बहुत नाराज है जिनमें कहा जा रहा था कि भारतीय टीम के कुछ खास खिलाड़ियों ने क्रिकेट बोर्ड से कप्तान विराट कोहली की शिकायत की थी।
इस सप्ताह लगातार ऐसी खबरें आ रही थीं जिनमें कहा जा रहा था कि भारतीय क्रिकेटर्स ने बीसीसीआई सचिव जय शाह को विराट कोहली की शिकायत की थी और इसके बाद ही बीसीसीआई ने मामले में दखल दी।
जब 16 सितंबर को कोहली ने बतौर टी20 कप्तानी से इस्तीफा दिया तो मीडिया में ये खबरें आईं कि कोहली ने सिलेक्टर्स से कहा था कि वे रोहित को टीम की उपकप्तानी से हटा दें। 28 सितंबर को ऐसी खबरें आईं कि दो सीनियर भारतीय क्रिकेटर्स- चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे- ने जय शाह से कोहली की शिकायत की थी।
बीसीसीआई के कोषाध्यक्ष अरुण धूमल ने अब बताया है कि ‘मीडिया को बकवास लिखना बंद करना चाहिए। मैं ऑन रिकॉर्ड यह बात कहना चाहता हूं कि किसी भी बीसीसीआई से कोहली की शिकायत नहीं की है। न ही लिखित, न मौखिक। बीसीसीआई हर ऐसी गलत खबर पर लगातार सफाई नहीं दे सकता। उस दिन हमनें खबर देखी कि वर्ल्ड कप टीम में परिवर्तन होगा। यह किसने कहा?’
13 सितंबर को जब टाइम्स ऑफ इंडिया ने खबर दी कि कोहली सीमित ओवरों के फॉर्मेट की कप्तानी छोड़ देंगे तो धूमल ने उन खबरों को नकार दिया था। उन्होंने मीडिया में कहा था, ‘बीसीसीआई ने स्प्लिट कप्तानी पर चर्चा ही नहीं की है।’
धूमल की बात सही थी। बीसीसीआई ने कोहली को सीमित ओवरों के प्रारूप से हटाने का फैसला नहीं किया था। टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट में कहा गया था- ‘विराट ने खुद ही इसका ऐलान करेंगे। उनकी नजर में उन्हें अपनी बल्लेबाजी पर ध्यान केंद्रित करने की जरूरत है और वही विराट बनने की जरूरत है जो वह हमेशा से रहे हैं- यानी दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज बनने की। सीमित ओवरों की कप्तानी छोड़ने का फैसला उनका अपना है।’
यह रिपोर्ट उसी लाइन पर थी। इसके बाद कोहली ने 16 सितंबर शाम 5:53 पर अपने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर वीडियो जारी कप्तानी से हटने का फैसला किया था।
धूमल का मीडिया को दिया बयान भी उसी लाइन पर है। कोषाध्यक्ष के तौर पर उन्होंने सही बयान दिया कि बीसीसीआई ने कोहली को पद से हटने के लिए नहीं कहा। धूमल ने कहा, ‘मीडिया ने मुझसे पूछा कि क्या बीसीसीआई ने यह फैसला किया था तो मैंने कहा नहीं। आखिरकार विराट ने अपना फैसला लिया और बीसीसीआई को यह उनका फैसला था। आज वही मीडिया कह रहा है कि खिलाड़ियों ने बीसीसीआई को शिकायत की है। तो, बोर्ड की ओर से मैं आपको बता सकता हूं कि कोई शिकायत नहीं हुई है। क्या अब भी कोई कन्फ्यूजन है?’
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *