बांग्लादेश: पीएम शेख हसीना की हत्या के प्रयास में 14 आतंकियों को सजा

ढाका। ढाका की स्पीडी ट्रायल ट्राइबूनल ने आज एक बड़ा फैसला सुनाया है। साल 2000 में प्रधानमंत्री शेख हसीना की हत्या के प्रयास के लिए अदालत ने 14 इस्लामी आतंकियों को सजा सुनाई है। दोषियों ने साल 2000 में हसीना को मारने की साजिश रची थी।

इसके पहले साल 2017 में प्रधानमंत्री शेख हसीना की हत्या के प्रयास में दस आतंकवादियों को मौत की सजा सुनाई जा चुकी है। अन्य दोषियों 20 साल की जेल की सजा सुनाई गई थी।

साल 2000 में एक खुले मैदान में लगाया गया था बम

साल 2000 में बांग्लादेश के दक्षिण-पश्चिम स्थित गोपालगंज में हसीना के पुश्तैनी गांव के एक खुले मैदान में अति-शक्तिशाली विस्फोटक डिवाइस का इस्तेमाल कर इनके हत्या की साजिश रची गई थी। पीएम शेख हसीना वहां एक जनसभा को संबोधित करने वाली थीं। हालांकि, सुरक्षा अधिकारियों ने जनसभा होने से पहले ही बम का पता लगा लिया था और पीएम की जनसभा में एक बड़ा दर्दनाक हादसा होने से बचा लिया था।

मास्टरमाइंड मुफ्ती हन्नान को दी जा चुकी है फांसी

तब जांच के बाद पता चला था कि हर्कतुल जिहाद-ए-इस्लामी बांग्लादेश (हूजी) का सरगना मुफ्ती हन्नान इस साजिश का मास्टरमाइंड था। हन्नान को बांग्लादेशी मूल के तत्कालीन ब्रिटिश उच्चायुक्त की हत्या के प्रयास के मामले में साल 2017 की की शुरूआत में फांसी दे दी गई थी। विशेषाधिकार कानून के मामले में 25 संदिग्धों को दोषी बनाया गया। इनमें से नौ को 20-20 साल कैद की सजा सुनाई गई और 20-20 हजार टका का जुर्माना लगाया गया था। इस मामले में चार लोगों को बरी कर दिया गया था।
– एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *