Azam Khan को झटका, अग्रिम जमानत याचिका खारिज़

रामपुर। Azam Khan के खिलाफ जमीनी विवाद, लोक प्रतिनिधि अधिनियम और कई दूसरे मामलों में जिला अदालत ने अग्रिम जमानत याचिका खारिज की।  Azam Khan की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं, सपा सांसद आज़म खान पर चल रहे 29 मुकदमों में जिला अदालत में अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी गई है।

यूपी में बीजेपी के सत्ता में आने के बाद से आज़म खान की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही हैं।  इससे पहले इलाहाबाद हाई कोर्ट ने आज़म खान पर 27 मामलों में दर्ज FIR को रद्द किए जाने की याचिका पर सुनवाई से इनकार कर दिया।

कोर्ट का कहना है कि 27 एफआईआर से जुड़े मामलों की सुनवाई एक ही अर्जी से नहीं हो सकती है।  कोर्ट ने कहा कि हर एफआईआर पर राहत पाने के लिए अलग-अलग अर्जी दाखिल करनी होगी।

पेड़ कटवाने के मामले में भी फंसे

आज़म खान जौहर यूनिवर्सिटी को लीज पर दी गई जमीन से खैर के पेड़ गायब होने के मामले में भी फंसते नजर आ रहे हैं।  लीज पर ली गई जमीन से पेड़ गायब होने के मामले में एडीएम प्रशासन जगदंबा प्रसाद गुप्ता ने बताया कि ये मामला गाटा संख्या 1252 और 1418 नंबर की जमीन का है।  ये जमीन जौहर यूनिवर्सिटी को लीज पर दी गई थी।

बताया जा रहा है कि आज़म खान को जौहर ट्रस्ट को यूनिवर्सिटी के लिए जो जमीन लीज पर दी गई थी उस समय 21 फरवरी 2007 में खैर के पेड़ थे, लेकिन अब जिला प्रशासन ने जांच के बाद शासन को जो रिपोर्ट भेजी है, उसके अनुसार लीज पर दी गई जमीन पर खैर के पेड़ नहीं है।

4 जून 2019 की एसडीएम सदर की जांच रिपोर्ट के अनुसार वहां से पेड़ गायब हैं जिसके अनुसार यह शासन के नियमों का उल्लंघन है।

– एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »