अयोध्या केस: सुप्रीम कोर्ट ने कहा, 18 अक्टूबर के बाद नहीं मिलेगा जिरह के लिए एक भी दिन

नई दिल्‍ली। अयोध्या केस की सुनवाई कर रहे सुप्रीम कोर्ट ने आज साफ कर दिया कि इस मामले 18 अक्टूबर के बाद पक्षकारों को जिरह के लिए एक भी दिन अतिरिक्त समय नहीं मिलेगा।
शीर्ष अदालत ने साफ किया कि सुनवाई पूरी करने की डेडलाइन नहीं बढ़ाई जाएगी।
बता दें कि अब तक 31 दिनों की सुनवाई शीर्ष अदालत में हो चुकी है। हिंदू पक्षकारों ने अपनी दलीलें रख दी हैं और मुस्लिम पक्षकार की दलीलें जारी हैं।
चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के नेतृत्व वाले पांच जजों की संविधान पीठ ने कहा कि अगर 18 अक्टूबर तक दलीलें पूरी हो जाती हैं तो चार सप्ताह में फैसला देना किसी करिश्मे से कम नहीं होगा। बता दें कि चीफ जस्टिस गोगोई 17 नवंबर को रिटायर हो रहे हैं।
चीफ जस्टिस ने सुनवाई के दौरान दोनों पक्षों से कहा कि आज का दिन मिलाकर 18 अक्टूबर तक हमारे पास साढ़े 10 दिन हैं। सुप्रीम कोर्ट ने आगाह करते हुए कहा कि अगर 18 अक्टूबर तक सुनवाई पूरी नहीं होती है, तो फैसला आने की उम्मीदें कम हो जाएंगी।
संविधान पीठ ने मुस्लिम पक्षकार और हिंदू पक्षकार को बहस के लिए समय-सीमा तय कर दी है।
कोर्ट के अनुसार, ज्यादातर दलीलें 4 अक्टूबर तक पूरी हो जाएंगी। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट दशहरा की छुट्टियां हो जाएंगी। कोर्ट 14 अक्टूबर को फिर खुलेगा। ऐसे कोर्ट के पास सुनवाई के लिए 18 अक्टूबर तक 5 और दिन बचेंगे।
आइए जानते हैं आज कोर्ट में क्या हो रहा है…
CJI ने सभी पक्षकारों से पूछा कि वे इस मामले में आगे कितना समय लेने वाले हैं। अभी मुस्लिम पक्ष की ओर से मीनाक्षी अरोड़ा दलील दे रही हैं। इसके बाद दो और वकील दलील देंगे। उसके बाद हिन्दू पक्षकार उस पर अपनी दलीलें देंगे। उसके बाद राजीव धवन अपनी जिरह करेंगे और उसके बाद फिर हिन्दू पक्षकार।
CJI- मैं जानना चाहता हूं कि इसमें कितना टाइम लग जाएगा। यह सब 18 अक्टूबर तक पूरा हो जाना चाहिए। क्योंकि एक सप्ताह की छुट्टियां हैं।
वैद्यनाथन ने कहा कि हिन्दू पक्षकारों को 3 से 4 दिन लगेंगे जिरह में।
मुस्लिम पक्ष की वकील मीनाक्षी अरोड़ा ने कहा कि मैं आज शाम तक अपनी दलीलें पूरी कर लूंगी।
CJI- क्या मुस्लिम पक्षकारों के लिए अपनी दलीलें पूरी करने के लिए 2 दिन काफी हैं?
राजीव धवन- 2 दिन में हम प्रयास करेंगे इसे समाप्त करने का।
हिन्दू पक्ष ने कहा 28 सितंबर और 1 अक्टूबर को हम रिजॉइंडर दाखिल करेंगे
CJI ने धवन ने पूछा कि क्या आपके लिए 2 दिन काफी होगा रिजॉइंडर के लिए
राजीव धवन ने कहा कि सम्भवत: यह कम होगा
CJI- फिर हम उम्मीद कर सकते है कि सुनवाई 18 अक्टूबर तक निपट जाएगी। हम इससे अधिक समय नहीं बढ़ाएंगे।
धवन- मैं ASI रिपोर्ट पर कुछ बातें कोर्ट के सामने रखना चाहता हूं।
CJI ने अनुमति दी।
ASI रिपोर्ट पर राजीव धवन ने पक्ष रखना शुरू किया।
धवन ने कहा विस्तृत आपत्तियां रिपोर्ट के खिलाफ की गईं थीं और यह भी कहा गया था कि रिपोर्ट को अदालत स्वीकार नहीं करे पर ऐसा नहीं किया गया।
ज्ञात रहे कि अयोध्या के राम मंदिर बाबरी मस्जिद जमीन विवाद मामले की सुनवाई के दौरान बुधवार को सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील ने कहा कि हमने ये बिल्कुल स्वीकार नहीं किया कि राम चबूतरा भगवान राम का जन्मस्थान है।
हमारी ये दलील है कि हिंदुओं को ऐसा विश्वास है और जिला जज के फैसले के बाद हमने कोई अपील नहीं की थी। जिला जज ने फैसले में कहा था कि राम चबूतरा जन्मस्थान है। हमने कभी ये अपनी तरफ से नहीं कहा कि बाहरी आंगन में स्थित राम चबूतरा भगवान राम का जन्मस्थान है। साथ ही कहा कि आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया की रिपोर्ट ऑपिनियन आधारित है, वह साइंटिफिक साक्ष्य नहीं है। रिपोर्ट कहता है कि विवादित स्थल के नीचे बड़ा स्ट्रक्चर था लेकिन उसे तोड़ा गया था इसके कोई निशान नहीं है। 31 वें दिन संवैधानिक बेंच के सामने सुनवाई हुई।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *