ऑस्ट्रेलिया का पाकिस्‍तान दौरा खतरे में, डरे हुए हैं ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर

पिछले वर्ष टी-20 वर्ल्ड कप से ठीक पहले टी-20 सीरीज खेलने पहुंची न्यूजीलैंड टीम ने मैच से कुछ घंटे पहले मैदान पर उतरने से मना करते हुए पाकिस्तान की इंटरनेशनल लेवल पर किरकिरी करा दी थी। इसके बाद इंग्लैंड ने भी अपना दौरा टाल दिया था। अब जब ऑस्ट्रेलिया को पाकिस्तान जाना है तो एक बार फिर आतंकी घटनाएं बढ़ गई हैं। लाहौर बम ब्लास्ट की वजह से ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर डरे हुए हैं और दौरा खतरे में पड़ता दिख रहा है।
सिडनी मॉर्निंग हेराल्ड की रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तान में आतंकी हमलों में तेजी के बीच ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर 24 साल में अपने पहले दौरे से मुश्किल से एक महीने पहले चिंतित हैं। टीम के एक करीबी सूत्र ने कहा, ‘हम सभी इसके बारे में चिंतित हैं।’ ऑस्ट्रेलिया को 3 मार्च से पाकिस्तान में तीन टेस्ट, तीन एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय और एक टी20 मैच खेलना है।
न्यूजीलैंड ने सुरक्षा मुद्दों का हवाला देते हुए सितंबर, 2021 में अचानक अपने दौरे को रोक दिया था। इंग्लैंड ने इसके बाद अपने दौरे को रद्द करने का ऐलान किया था। दूसरी ओर पाकिस्तान ने माना है कि अफगानिस्तान में तख्ता पलट के बाद से आतंकी घटनाओं में वृद्धि हुई है। पाकिस्तान के गृह मंत्री शेख राशिद ने कहा कि अमेरिका के अफगानिस्तान से हटने के बाद तालिबान सरकार बनने से आतंकवादी घटनाओं में एक तिहाई से अधिक की वृद्धि हुई है।
पूर्वी पाकिस्तान लाहौर में हाल ही में भीड़-भाड़ वाले बाजार में बम विस्फोट हुआ। इसमें तीन लोगों की मौत हो गई और 20 से अधिक घायल हो गए। दक्षिण-पश्चिमी बलूचिस्तान प्रांत में स्थित एक नवगठित अलगाववादी समूह ने रॉयटर्स के एक रिपोर्टर को भेजे गए एक टेक्स्ट संदेश में हमले की जिम्मेदारी ली है।
उल्लेखनीय है कि इससे पहले अमेरिका के टेक्सास में हुई आतंकी घटना ने पूरी दुनिया का ध्यान पाकिस्तान में सक्रिय आतंकवाद की ओर खींचा था। यहां पाकिस्तानी मूल के एक शख्स ने 4 लोगों को बंधक बनाकर लेडी अल-कायदा कही जाने वाली आतंकवादी आफिया सिद्दीकी की रिहाई की मांग की थी। इससे इंटरनेशनल लेवल पर पाकिस्तान की बेइज्जती हुई थी।
24 वर्ष में पहला दौरा
पाकिस्तान ने पिछली बार अपनी सरजमीं पर अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) के टूर्नामेंट का आयोजन 1996 में किया था जब उसने भारत और श्रीलंका के साथ विश्व कप की सहमेजबानी की थी। 2009 में श्रीलंका की टीम बस पर आतंकी हमले के बाद से देश में 2019 तक टेस्ट क्रिकेट का आयोजन नहीं हो पाया। ऑस्ट्रेलिया की टीम 24 साल में पहले पाकिस्तान दौरे की राह पर है।
दूसरी ओर राष्ट्रीय चयनकर्ता जॉर्ज बेली ने कहा, ‘मेरा मानना है कि दोनों बोर्ड अब भी दौरे को लेकर कुछ मामूली चीजों पर काम कर रहे हैं इसलिए एक बार इन्हें औपचारिक स्वीकृति मिलने के बाद हम टीम की घोषणा करेंगे लेकिन हम काफी हद तक सही दिशा में जा रहे हैं।’ ऑस्ट्रेलिया ने पिछली बार 1998 में मार्क टेलर की अगुआई में पाकिस्तान का दौरा किया था।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *