Catalonia को स्वतंत्र देश बनाने की घोषणा फिलहाल टली

Catalonia के राष्ट्रपति कार्लस पुजिमोंट ने संसद को संबोधित करते हुए कहा कि ”Catalonia ने स्वतंत्र देश बनने का अधिकार हासिल कर लिया है. मैं कैटलन नागरिकों के स्वतंत्र देश की चाहत के साथ रहूंगा.”
कैटलन राष्ट्रपति कार्लस पुजिमोंट ने लोगों को लोकतंत्र का साथ देने और शांति की अपील की है. पुजिमोंट ने कहा कि Catalonia को अलग देश बनाने के मसले पर तनाव को कम करने की ज़रूरत है. उन्होंने संवाद की ज़रूरत को भी रेखांकित किया.
स्थानीय संसद को संबोधित करते हुए पुजिमोंट ने कहा कि कैटेलोनिया अब कोई आंतरिक मुद्दा नहीं है बल्कि अब यह यूरोप का मुद्दा बन गया है. उन्होंने कहा कि किसी भी तरह का ख़तरा बनने या किसी को अपमानित करने की उनकी कोई योजना नहीं है.
पुजिमोंट ने कहा कि वो तनाव और गतिरोध को कम करना चाहते हैं. Catalonia की स्थानीय संसद को संबोधित करते हुए पुजिमोंट ने जनमत संग्रह के दौरान स्पैनिश सरकार की कार्यवाही की निंदा की. पुजिमोंट ने कहा कि सभी पक्षों के लोग तनाव को लेकर चिंतित हैं. कैटलन राष्ट्रपति ने संवाद और सहिष्णुता की अपील की.
पुजिमोंट ने स्पैनिश सरकार पर आक्रामक रवैया अपनाने और शक्तियों के केंद्रीकरण का आरोप लगाया.
स्पेन के उत्तर-पूर्वी स्वायत्त इलाक़े Catalonia के राष्ट्रपति कार्लस पुजिमोंट के संबोधन का बेसब्री से इंतज़ार किया जा रहा था क्योंकि उम्मीद थी कि वो इसी संबोधन में संसद में कैटेलोनिया को स्वतंत्र देश बनाने की घोषणा कर देंगे.
पुजिमोंट ने स्थानीय संसद में कैटेलोनिया को स्वतंत्र देश बनाने की घोषणा नहीं की.
राष्ट्रपति पुजिमोंट ने कहा कि वो आज़ाद Catalonia के पक्ष में मिले जनमत संग्रह का पालन करेंगे लेकिन समस्या के समाधान के लिए पहले स्पेन से बातचीत की ज़रूरत है. उन्होंने कैटेलोनिया के नागरिकों से शांतिपूर्ण प्रदर्शन की अपील की. पुजिमोंट ने सभी पक्षों से तनाव कम करने का आग्रह किया.
पुजिमोंट के इस संबोधन को लेकर पूरे Catalonia में काफ़ी सरगर्मी थी. अगर कैटेलोनिया को स्वतंत्र देश बनाने की घोषणा कर दी जाती तो हिंसक तनाव बढ़ने की आशंका थी.
कैटेलोनिया का इतिहास
कैटेलोनिया स्पेन के सबसे संपन्न इलाक़ों में से एक है. इसका एक हज़ार साल पुराना अलग इतिहास रहा है. स्पेन में गृह युद्ध से पहले इस इलाक़े को स्वायत्तता मिली हुई थी. 1939 से 75 के बीच जनरल फ्रांसिस्को फ्रैंको के नेतृत्व में कैटेलोनिया को जो स्वायत्तता मिली थी, उसे ख़त्म कर दिया गया.
जब फ्रैंको की मौत हुई तो कैटेलन राष्ट्रवाद को फिर से हवा मिली और आख़िर में उत्तरी-पूर्वी इलाक़ों को फिर से स्वायत्तता देनी पड़ी. ऐसा 1978 के संविधान के तहत किया गया. 2006 के एक अधिनियम के तहत कैटेलोनिया को और ताक़त दी गई.
कैटेलोनिया का वित्तीय दबदबा बढ़ा और उसे एक राष्ट्र के रूप में देखा जाने लगा. लेकिन यह भी बहुत दिनों तक नहीं रहा. स्पेन की संवैधानिक कोर्ट ने 2010 में सारी ताक़त वापस ले ली. इसके बाद से वहां का स्थानीय प्रशासन नाराज़ है.
स्पेन से अलग क्यों होना चाहते हैं कैटलन?
आर्थिक मंदी और सार्वजनिक खर्चों में कटौती के बाद से कैटेलोनिया में स्वायत्तता को लेकर लोगों का ग़ुस्सा और बढ़ गया है. कैटेलन्स ने नवंबर 2014 में आज़ादी के लिए एक अनाधिकारिक रूप से मतदान का आयोजन किया था.
54 लाख योग्य मतदाताओं में से 20 लाख से ज़्यादा मतदाता इस मतदान में शरीक हुए थे.
इस मतदान के बाद अधिकारियों ने कहा था कि 80 फ़ीसदी लोगों से स्पेन से आज़ाद होने के पक्ष में मतदान किया था. कैटेलोनिया में 2015 के चुनाव में अलगाववादियों को जीत मिली थी. इन्होंने चुनाव के दौरान ही जनमत संग्रह कराने का वादा किया था.
-BBC