दिल्ली हिंसा पर अमित शाह एक्‍शन में: हाई लेवल मीटिंग बुलाई, केजरीवाल भी मौजूद रहे

नई दिल्‍ली। उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हिंसा जारी है। देश की राजधानी में बिगड़े हालात को देखते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने हाई लेवल मीटिंग बुलाई।
इस मीटिंग में दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और पुलिस अधिकारी शामिल हुए।
दिल्ली हिंसा को लेकर अमित शाह खुद काफी एक्टिव हो गए हैं और पिछले 14 घंटे में उन्होंने दो बड़ी मीटिंग बुलाई। सोमवार रात 10 बजे भी उन्होंने दिल्ली के आला अधिकारियों संग बड़ी बैठक की थी, और अब उनकी केजरीवाल के साथ हुई।
इससे पहले केजरीवाल ने अपने विधायकों और प्रमुख सचिवों की बैठक बुलाई थी। केजरीवाल ने दिल्ली के हिंसा प्रभावित क्षेत्रों के विधायकों के साथ बैठक के बाद मीडिया को संबोधित करते हुए लोगों से शांति की अपील की। इस दौरान उन्होंने आरोप लगाया कि बॉर्डर से बाहर के लोग आकर हिंसा भड़का रहे हैं। वहीं बीजेपी सांसद गौतम गंभीर ने भी कहा कि हिंसा भड़काने वाला कोई भी हो उसके खिलाफ कार्यवाही होनी चाहिए।
अब तक हिंसा में 7 लोगों की मौत
उत्तर-पूर्वी दिल्ली में जारी हिंसक प्रदर्शन में अब तक 7 की मौत हो चुकी है और 105 से अधिक लोग घायल हो चुके हैं। हिंसा वाले इलाकों में पुलिस की भारी फोर्स तैनात है। नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली में नागरिकता संशोधन कानून को लेकर जारी विरोध प्रदर्शनों ने एक तरह से सांप्रदायिक रंग ले लिया है। मौजपुर, कबीर नगर और जाफराबाद में मंगलवार को हिंसा के तीसरे दिन हालात बेहद तनावपूर्ण हैं। मौजपुर में तो सुबह-सुबह ही पत्थरबाजी शुरू हो गई, कुछ वाहनों को भी जलाए जाने की खबर है।
इस वक्त अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और यूएस की फर्स्ट लेडी मेलानिया ट्रंप भी दिल्ली में मौजूद हैं। इससे पहले दिल्ली के हालातों पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार देर शाम आपात बैठक बुलाई। यह बैठक 10 बजे तक चली थी जिसमें दिल्ली के हालात पर तुरंत काबू के लिए उच्चस्तरीय मंथन हुआ।
कपिल मिश्रा की स्पीच पर यह बोले गंभीर
इस बीच बीजेपी सांसद गौतम गंभीर ने कपिल मिश्रा के भाषण पर कहा, ‘यह कोई मायने नहीं रखता है कि वह शख्स कौन है, भले ही वह कपिल मिश्रा हो या फिर कोई और…या किसी पार्टी से संबंध रखता हो, यदि उसने इस तरह का भड़काऊ भाषण दिया हो तो उसके खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जानी चाहिए।’
दिल्ली में एक बार फिर शुरू हुई हिंसा के मद्देनजर 5 मेट्रो स्टेशन- जाफराबाद, मौजपुर-बाबरपुर, गोकुलपुरी, जौहरी एनक्लेव और शिव विहार आज भी बंद रहेंगे। वेलकम मेट्रो स्टेशन पर ही यात्रा समाप्त की जा रही है। कुछ इलाकों में आज स्कूल-कॉलेज भी बंद रहेंगे।
उपद्रवियों के खिलाफ मुकदमे दर्ज
रविवार को हुई हिंसा के मामले में नॉर्थ ईस्ट जिला पुलिस उपद्रवियों के खिलाफ चार मुकदमे दर्ज कर चुकी थी। सोमवार को उपद्रव बढ़ गया था, इसलिए देर रात तक पुलिस ने मुकदमे दर्ज नहीं किए थे। उपद्रव के दौरान तीन मौत और पुलिस वालों समेत सैकड़ों लोगों के जख्मी होने से मर्डर और दंगे की धाराओं में अलग-अलग मुकदमे दर्ज होने तय हैं।
सड़कों पर भारी फोर्स मौजूद
पुलिस के आला अफसरों के मुताबिक नॉर्थ ईस्ट जिले की हिंसा के मद्देनजर सीआरपीएफ की दस कंपनियों को वहां भेज दिया गया है। इनमें दो कंपनियां रैपिड एक्शन फोर्स की भी हैं। क्राइम ब्रांच, स्पेशल स्टाफ, स्पेशल ब्रांच और विभिन्न यूनिट्स में तैनात पुलिस वालों को भी मैदान में उतरने के निर्देश दे दिए गए हैं।
आला अधिकारियों को शाह ने किया तलब
उत्तर-पूर्वी दिल्ली के जाफराबाद में शुरू हुई हिंसा को तुरंत काबू करने के लिए गृह मंत्रालय की ओर से देर रात तक बैठक होती रही। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने तमाम आला हुक्मरानों को इस आपात बैठक में तलब किया है। उधर केंद्रीय गृह सचिव ए. के. भल्ला ने हालात पर कड़ी नजर रखे होने की बात कही है। उन्होंने हर हाल में शांति कायम करने के लिए की गई सभी जरूरी व्यवस्था पर संतुष्टि जताई।
हिंसा ने लिया था विकराल रूप
बता दें कि शनिवार-रविवार से धीरे-धीरे फैली हिंसा की आग ने सोमवार को विकराल रूप धारण कर लिया। सीएए के विरोध और पक्ष में जुटी भीड़ आमने-सामने आ गई। दोनों तरफ से जमकर पथराव और फायरिंग हुई। सोमवार को दोपहर बाद सीएए विरोधी भीड़ में से निकले एक युवक सीएए समर्थकों की भीड़ पर तमंचे से गोली चला दी, जिससे हड़कंप मच गया। गोली चलाने वाला युवक भीड़ का फायदा उठाकर मौके से फरार हो गया। दिल्ली पुलिस के सूत्रों के मुताबिक शाहरुख नाम के इस युवक को हिरासत में ले लिया गया है।
10 थाना इलाकों में धारा 144
बता दें कि दिल्ली में सोमवार को हुए हिंसक घटना में अब तक एक हेड कॉन्स्टेबल समेत सात लोगों की मौत हो चुकी है। इसके अलावा 105 लोग घायल हैं। घायलों को उपचार के लिए जीटीबी और अन्य अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। उपद्रव की चपेट में सबसे ज्यादा नॉर्थ ईस्ट जिले के चार थाना इलाके हैं। दिल्ली पुलिस ने जिले के दस थाना इलाकों में धारा 144 लगा दी है। चार लोगों के एक साथ खड़े होने पर पाबंदी लग चुकी है।
उपद्रवियों ने कई राउंड फायरिंग की
फिर भी देर रात तक हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही थी। दिनदहाड़े सरेआम पिस्टल लहराकर फायरिंग होने से इलाके के लोग सहमे हुए हैं। देर रात तक भजनपुरा थाना इलाके के नूर-ए-इलाही और दयालपुर थाना इलाके के मुस्तफाबाद में देर रात तक उपद्रव चलता रहा। दावा किया गया कि उपद्रवियों ने कई राउंड फायरिंग की। इससे स्थानीय निवासियों ने नौकरी और पढ़ने के लिए घर से बाहर गए अपने बच्चों को अपने रिश्तेदारों के यहां जाने को कह दिया।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *