अरुणाचल प्रदेश: वायु सेना का एमआई-17 हेलीकॉप्टर तवांग में दुर्घटनाग्रस्‍त, 7 लोगों की मौत

भारतीय वायु सेना का एमआई-17 हेलीकॉप्टर शुक्रवार को अरुणाचल प्रदेश के तवांग में दुर्घटना का शिकार हो गया.
समाचार एजेंसी पीटीआई ने भारतीय वायु सेना के एक सीनियर अधिकारी के हवाले से बताया कि हादसे में हेलीकॉप्टर पर सवार सभी 7 लोगों की मौत हो गई है. ये सभी सेना के स्टाफ़ थे.
अधिकारी ने बताया कि एमआई-17 हेलीकॉप्टर ने सुबह छह बजे के करीब उड़ान भरी थी. हादसे की जांच के आदेश दे दिए गए हैं. बचाव दल घटना स्थल की तरफ़ रवाना कर दिया गया है.
अरुणाचल का मौसम
शुक्रवार की घटना जिस इलाके में हुई है, वो जगह भारत-चीन सीमा के पास है.
दरअसल, “तवांग और उसके आस-पास के इलाके में मौसम एकाएक बदलता है. तेज धूप और खुले आसमान वाले मौसम को घने बादलों और मूसलाधार बारिश में बदलते देर नहीं लगती इसलिए अरुणाचल प्रदेश में पहले भी इस तरह की दुर्घटनाएं होती रही हैं.”
हेलीकॉप्टर हादसों का प्रदेश
अरुणाचल प्रदेश में इसी साल जुलाई में वायु सेना का एक हेलीकॉप्टर हादसे का शिकार हुआ था जिसमें दो लोगों की मौत हुई थी.
ठीक इस हादसे के समय गृह राज्य मंत्री किरन रिजिजू का एमआई-17 हेलीकॉप्टर इटानगर में ख़राब मौसम के कारण हादसे का शिकार होते-होते बचा था.
2015 में पवन हंस का एक हेलीकॉप्टर हादसे का शिकार हो गया. इस हादसे में अरुणाचल के तिरप ज़िले के डिप्टी कमिश्नर कमलेश जोशी और दो अन्य लोग मारे गए.
अरुणाचल में हेलीकॉप्टर हादसों का इतिहास रहा है. राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री दोर्जी खांडू की मौत 29 अप्रैल, 2011 में एक हेलीकॉप्टर हादसे में हुई थी.
16 अप्रैल. 2011 में ही तवांग में एक हेलीकॉप्ट लैंड करते समय क्रैश कर गया था. घटना में 16 लोगों की मौत हुई थी.
नवंबर, 1997 में रक्षा राज्य मंत्री एनवीएन सोमू, मेजर जनरल रमेश नागपाल समेत दो लोगों की मौत चीता हेलीकॉप्टर क्रैश में तवांग के पास हुई थी.
-BBC