अरशद वारसी ने कहा, मेरी कोई मार्किट वैल्यू नहीं है

मुंबई। अभिनेता अरशद वारसी इन दिनों अपनी रिलीज़ के लिए तैयार फिल्म ‘फ्रॉड सैय्यां’ के प्रमोशन में जुटे हैं। बॉलिवुड में आमतौर जब भी कोई फिल्म तीन से चार साल पुरानी होने के बाद रिलीज़ होती है, उम्मीद से बेहद कम बिजनेस करती है। ‘फ्रॉड सैय्यां’ भी तीन साल पहले बन गई थी लेकिन फिल्म अब जाकर रिलीज़ हो रही है।
अरशद कहते हैं, ‘मुझे लगता है हमारी फिल्म 3 से 4 साल डिले है, यह कोई बड़ी बात नहीं है, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। फिल्म की कहानी और कन्टेंट अच्छा होना चाहिए। तीन साल तो मैंने भी कोई काम नहीं किया, चौथे साल मैंने शूट किया, चार साल बाद तो मैं भी वापस आया हूं। मैं अब तक चल रहा हूं।’
पिछले कई सालों में अरशद की सोलो हीरो वाली फिल्में नहीं चली, इस दौरान वह बिना काम के घर में बैठे थे। अरशद बताते हैं, ‘जिंदगी में किसी भी चीज को बहुत ज्यादा सीरियस नहीं लेना चाहिए, किसी परेशानी का कोई भी असर आपकी जिंदगी में नहीं होना चाहिए। हार-जीत, अच्छा-बुरा वक्त, हिट-फ्लॉप फिल्म जैसी चीजों को इतनी गंभीरता से न लें कि तकलीफ होने लगे और आपका नेचर ही बदल जाए।’
अरशद आगे बताते हैं, ‘जब तीन साल मेरे पास काम नहीं था, तब मुझे वाकई में किसी तरह की कोई चिंता या डिप्रेशन तो नहीं हुआ। मैं यह जरूर सोचता था कि मैं बोर हो जाऊंगा। मैं तो घर का काम करने लग जाता था। मेरी बीवी एमटीवी में काम करती थी और मैं घर संभालता था। मेरी बीवी मुझे कभी ताने नहीं मारती थी, बड़ी इम्पोर्टेन्ट बीवी है हमारी। बाद में जब मुझे टीवी का कोई काम मिलता तो वह कर लेता था।’
काम न मिलने से हताश लोगों को अरशद सलाह देते हुए कहते हैं, ‘जो लोग काम न होने के कारण उस तरह के हालात से गुजर रहे हैं, गुजर सकते हैं या कभी इस तरह का कोई मौका सामने आ जाए तो अपने आप पर जो भरोसा है, वह कभी मत तोड़ना। अगर आप अपना भरोसा खुद खो देते हैं तो दूसरे भी आप पर भरोसा करना बंद कर देते हैं। लोगों को यकीन करने में ज्यादा वक्त लगता है, ऐसे में आप खुद पर यकीन नहीं करेंगे तो किस्सा खत्म हो जाता है। मुश्किल समय से बाहर निकलने में वक्त जरूर लगता है, लेकिन थोड़े प्रयास के बाद वह कठिन समय पार भी हो जाता है।’
लगातार कई फ्लॉप फिल्मों के बाद क्या आपको अपनी मार्किट वैल्यू की चिंता होती है?
जवाब देते हुए अरशद कहते हैं, ‘मेरी कोई मार्किट वैल्यू ही नहीं है। जब कोई मार्किट वैल्यू ही नहीं तो फर्क भी नहीं पड़ता है। मेरे ऊपर भगवान की बड़ी मेहरबानी रहती है। मेरी फिल्म नहीं भी चलती तो मेरे मार्किट वैल्यू पर कोई उतार-चढ़ाव नहीं आता है। जब मैंने ‘मुन्ना भाई’ के पहले भाग में काम किया था तो वह फिल्म खूब चली थी, लोगों ने मेरे काम की भी खूब तारीफ भी थी लेकिन 9 से 10 महीने तक मेरे पास कोई काम ही नहीं था। मुझे समझ ही नहीं आ रहा था कि मेरे साथ ऐसा क्यों हो रहा है, मैंने तो अच्छा काम किया था। इस बारे में जब मैंने राजकुमार हिरानी से बात की तो उन्होंने मुझे कहा कि शायद लोग अभी समझ नहीं पा रहे कि वह मुझे किस रोल में लें। कैरक्टर रोल में तुम फिट नहीं होते, हीरो बनाए या सेकंड लीड बनाएं लोग समझ नहीं रहे।’
अरशद आगे कहते हैं, ‘मेरी सोलो फिल्म नहीं चलती तो किसी भी तरह का कोई फर्क नहीं पड़ता, क्योंकि मेरी मल्टीस्टारर फिल्म ‘गोलमाल’, ‘धमाल’, ‘इश्कियां’ और ‘मुन्ना भाई’ जैसी फिल्में चलती रहती हैं। थैंकफुली मैंने कुछ फिल्मों को चुनकर ऐसेइन्वेस्ट्मन्ट किए हैं, जिनकी वजह से मार्किट वैल्यू पर कोई आंच नहीं आती है।’
अरशद वारसी, सौरभ शुक्ला, फ्लोरा सैनी, ऐली अवराम, वरुण बडोला, दीपाली पंसारे, पराग त्यागी और निवेदिता तिवारी जैसे कलाकारों से सजी फिल्म ‘फ्रॉड सैय्यां’ 18 जनवरी को सिनेमाघरों में रिलीज़ होगी। इस फिल्म का निर्देशन सौरभ श्रीवास्तव ने किया है और निर्माता प्रकाश झा हैं।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *