अनुषा श्रीनिवासन अय्यर को नेशनल अवॉर्ड फॉर एक्सीलेंस से नवाज़ा‌

इंदौर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि इस सरकार के लिए देश के विकास का मतलब महज़ ये नहीं है कि आर्थिक संकेतकों में सुधार दिखायी दे, बल्कि हर तबके के लोगों के आत्मसम्मान में‌ होनेवाली बढ़ोत्तरी भी इस बात का द्योतक है। उन्होंने‌ कहा था,‌ “मेरे लिए राइज़िंग इंडिया का मतलब 125 करोड़ भारतियों के आत्म-सम्मान का बढ़ना है.” पूरी दुनिया भारत के बढ़ते क़द को स्वीकार रही है। उल्लेखनीय है कि भारत में आनेवाले राष्ट्रीय प्रमुखों की संख्या पिछले 6 सालों में बढ़कर‌ दोगुनी हो चुकी है।

Anusha Srinivasan Iyer conferred with National Award for Excellence
अनुषा श्रीनिवासन अय्यर को नेशनल अवॉर्ड फॉर एक्सीलेंस से नवाज़ा‌

भारत के 73वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर इकोनॉमिक ‌टाइम्स ने‌ ऐसे कामयाब भारतीयों (एकल और सेट-अप्स) पर एक सारगर्भित लेख छापा, जिन्होंने विश्वभर में भारत के झंडे को गर्व से और ऊंचा फ़हराने में मदद की हो। इस बेहद विशेष सूची में अपने सामाजिक कार्यों के लिए जाने जानेवाली अनुषा श्रीनिवासन अय्यर को ET राइज़िंग इंडियन घोषित किये जाने के अलावा, देश के सामाजिक-आर्थिक विकास में योगदान देने के लिए द नैशनल अवॉर्ड फॉर एक्सेलेंस 2019 से भी सम्मानित किया गया। उन्हें जेडब्ल्यू मैरियट,‌ इंदौर में विश्वभर से आये गणमान्य लोगों की उपस्थिति के बीच ये पुरस्कार प्रदान किया गया।

अनुषा श्रीनिवासन अय्यर एक प्रतिष्ठित इमेज और मीडिया रणनीतिकार, ब्रांड कस्टोडियन और भारत के टॉप एंटरटेनमेंट, लाइफ़स्टाइल पीआर व मीडिया एजेंसी ‘नारद पीआर ऐंड इमेज स्ट्रैटिजिस्ट’ की सर्वेसर्वा भी हैं। अनुषा की पहचान एक उदार दिल और तेज़-तर्रार पत्रकार के रूप में भी भी रही है। उल्लेखनीय है कि उन्होंने अपने घर में 89 बेसहारा जानवरों को पनाह दी हुई है जिससे उनका घर जानवरों के‌ आश्रय के रूप में तब्दील हो चुका है। एक TEDx स्पीकर के तौर पर अनुषा की काफ़ी डिमांड है, जो बेबाक अंदाज़ में लिंग-भेद और पशुओं के अधिकारों की बात करती हैं। एक लाइफ़ कोच के तौर पर भी सक्रिय अनुषा अंतर्राष्‍ट्रीय स्तर की एक अवॉर्ड विजेता फ़िल्ममेकर भी हैं, जिन्हें अब तक विश्व स्तर के 17 अवॉर्ड्स से नवाज़ा जा चुका है।

मानवाधिकार और विकलांगता की बंदिशें तोड़ने संबंधी उनकी फ़िल्म ‘सारे सपने अपने हैं’ दुनिया भर के 74 फ़ेस्टिवल्स में‌ दिखायी जा चुकी है. समीक्षकों द्वारा बेहद सराही गयी इस फ़िल्म में बाल कलाकार‌ वेदांत गिल ने अहम भूमिका निभायी है।

ग़ौरतलब है कि इतने बड़े पैमाने पर सम्मानित अनुषा को अब इकोनॉमिक टाइम्स द्वारा ET राइज़िंग इंडियन घोषित किया गया है। इतना ही नहीं,‌ उन्हें वर्ल्ड बुक्स ऑफ़ रेकॉर्ड (लंदन) और ALMA की ओर से नैशनल अवॉर्ड फॉर एक्सेलेंस भी दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *