केरल में चर्च से ऐलान, 5 से अधिक बच्चे पैदा करने वाले को देंगे आर्थिक सहायता

कोच्चि। देश भर में बढ़ती जनसंख्‍या पर लगाम लगाने की चर्चा के बीच केरल में अलग तरह का मामला सामने आया है। केरल में एक चर्च ने पांच से अधिक बच्चे पैदा करने वाले ईसाई परिवारों को आर्थिक सहायता मुहैया कराने की घोषणा की है।
इसके तहत ऐसे परिवारों को 15 सौ रुपये की सहायता हर महीने द‍िए जाने का वादा क‍िया गया है। हालांक‍ि यह सुविधा 2000 के बाद व‍िवाह‍ित और पांच बच्‍चों वाले जोड़ों को ही म‍िल सकेगी।
र‍िपोर्ट के मुताब‍िक केरल में सिरो-मालाबार कैथोलिक चर्च के एक सूबा ने पांच या अधिक बच्चों वाले परिवारों का समर्थन करने के लिए एक योजना की घोषणा की है। इस कदम को समुदाय को अपनी संख्या बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित करने के रूप में देखा जा रहा है। इसके तहत एक परिवार में चौथे और बाद के बच्चों के लिए सेंट जोसेफ कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, पाला में पढ़ाई के लिए छात्रवृत्ति प्रदान की जाएगी। साथ ही पाला में मार स्लीवा मेडिसिटी अस्पताल अपने चौथे और बाद के बच्चों को जन्म देने वाली महिलाओं के लिए गर्भावस्था से संबंधित खर्चों को कवर करेगा। दरअसल, कॉलेज और अस्पताल दोनों चर्च के अंतर्गत आते हैं।
जानकारी के मुताब‍िक चर्च के ‘ईयर ऑफ द फैमिलीन’ समारोह में बिशप जोसेफ कल्लारंगट की ओर से एक ऑनलाइन बैठक में योजना की घोषणा की गई थी। बिशप मध्य केरल में पाला के सिरो-मालाबार अधिवेशन के प्रमुख हैं। फैमिली एपोस्टोलेट के निदेशक रेव जोसेफ कुट्टियांकल ने कहा कि यह योजना सिरो-मालाबार चर्च के पाला सूबा से संबंधित लोगों के लिए है। सूबा में मीनाचिल तालुक और कोट्टायम तालुक के कुछ हिस्से, एर्नाकुलम जिले में कूथट्टुकुलम से पिरावोम तक के क्षेत्र, अरक्कुलम पंचायत और इडुक्की जिले में वेल्लियामट्टम पंचायत के कुछ हिस्से शामिल हैं।
परिवारों को बढ़ावा देने को बनी योजना
रेव जोसेफ कुट्टियांकल ने बताया क‍ि यह योजना अलग-अलग तरीकों से परिवारों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से तैयार की गई है। परंपरागत रूप से चर्च और विश्वासियों ने अधिक बच्चे पैदा करने का विचार व्यक्त किया है। इसलिए यह (योजना) मुख्य रूप से की जा रही है। साथ ही कई परिवार कोविड के कारण आर्थिक तंगी में हैं। हम इसे भी हल करने की योजना बना रहे हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *