अमित शाह ने कहा, असम में घुसपैठ को सिर्फ बीजेपी ही रोक सकती है

कोकराझार। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने नालबारी (असम) में ‘विजय संकल्प समावेश कार्यक्रम में कांग्रेस पर हमला बोला। अमित शाह ने कहा कि ये कांग्रेस और बदरुद्दीन अजमल असम को घुसपैठ से रोक सकते हैं क्या? ये जोड़ी सारे दरवाजे खोल देगी और घुसपैठ को सरल कर देगी क्योंकि उनकी वोट बैंक है। असम में घुसपैठ को कोई रोक सकती है तो बीजेपी रोक सकती है।
अमित शाह ने कहा कि कांग्रेस कई बार बीजेपी पर सांप्रदायिक होने का आरोप लगाती है, मैं कांग्रेस से पूछना चाहता हूं कि केरल में मुस्लिम लीग के साथ बैठे हैं और असम में बदरुद्दीन अजमल के साथ गठबंधन किए हो। आप बता सकते हो ये कौन सी धर्मनिरपेक्ष पार्टी है।
‘कांग्रेस ने उग्रवादी संगठनों संग किए कई समझौते, पर निभाने में विफल’
केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने रविवार को कहा कि एक साल पहले किए गए बोडोलैंड टेरिटोरियल रीजन (बीटीआर) समझौते ने पूर्वोत्तर में उग्रवाद को समाप्त करने की प्रक्रिया की शुरुआत की है। शाह ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस ने अतीत में अलग-अलग उग्रवादी संगठनों के साथ कई समझौतों पर हस्ताक्षर किए लेकिन वह किए गए वादों को निभाने में विफल रही।
‘बोडो समझौते के सभी प्रावधानों को पूरा करने को संकल्पित है BJP’
अमित शाह ने कहा कि मैं यहां यह बताने के लिए आया हूं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी बीटीआर समझौते के सभी प्रावधानों को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं, जो क्षेत्र में शांति और विकास का मार्ग प्रशस्त करेगा। यह क्षेत्र में उग्रवाद के अंत की शुरुआत का प्रतीक है। उन्होंने बीटीआर समझौता दिवस के अवसर पर अपने संबोधन के दौरान कहा कि बीजेपी सरकार में असम के सभी समुदायों के राजनीतिक अधिकार, संस्कृति और भाषा सुरक्षित है।
बीजेपी सरकार ने बोडो को बनाया असम की सहायक भाषा
केंद्रीय गृहमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री शनिवार को असम में थे और उन्होंने एक लाख से अधिक स्थानीय मूल के लोगों को भूमि पट्टे बांटे। राज्य सरकार ने पहले ही बोडो को असम की सहायक भाषा बना दिया है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि राज्य के सभी समुदायों की समृद्ध संस्कृति, भाषा और विरासत की रक्षा, संरक्षण और संवर्धन के लिए कई उपाय किए गए हैं।
असम को भ्रष्टाचार, उग्रवाद और प्रदूषण मुक्त बना सकती है बीजेपी
शाह ने कहा कि केवल बीजेपी ही नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में असम को भ्रष्टाचार , उग्रवाद और प्रदूषण मुक्त बना सकती है। बोडोलैंड प्रांतीय क्षेत्र जिले (बीटीएडी) में शांति के लिए तैयार किए गए बीटीआर समझौते पर पिछले साल 27 जनवरी को केंद्र सरकार, असम सरकार, नेशनल डेमोक्रेटिक फ्रंट ऑफ़ बोडोलैंड के सभी चार गुटों और तत्कालीन बोडोलैंड प्रांतीय परिषद प्रमुख हगराम मोहिलरी की ओर से हस्ताक्षर किए गए थे।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *