असम में बोले अमित शाह, कांग्रेस तोड़ने का काम करती है और हम जोड़ने का

गुवाहाटी। चुनावी राज्य असम पहुंचे गृहमंत्री अमित शाह ने कांग्रेस पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस आने का मतलब अशांति आना। 10 साल तक कांग्रेस का शासन था। गोलियां चल रही थीं, लोग मर रहे थे, दिनों दिन तक कर्फ्यू था। आतंकवादी, आतंकवाद का नंगा नाच, नाच रहे थे। आतंकवाद ने सारी हदें लांघ दी थीं। पांच साल पहले बीजेपी सरकार आई उसके बाद से असम में शांति है।
अमित शाह ने कहा कि एक तरफ राहुल और बदरुद्दीन अजमल की कांग्रेस है। दूसरी तरफ मोदी की बीजेपी है। कांग्रेस की नीति है झगड़ा कराओ, तोड़ो और राज करो। इन्होंने असमियों-बंगालियों के बीच झगड़ा कराया, अपर असम–लोवर असम के बीच झगड़ा कराया।
‘असम में मर रहे थे लोग’
भाजपा की नीति है, सबका साथ-सबका विकास-सबका विश्वास। 5 साल पहले असम में कांग्रेस का शासन था। तब आंदोलन चल रहे थे, गोलियां चल रही थीं, लोग मर रहे थे, दिनों-दिनों तक कर्फ्यू लगता था। आतंकवादी खुले आम उत्पात मचा रहे थे, विकास का कहीं पर भी नामो-निशान नहीं था।
‘कांग्रेस तोड़ने का काम करती है, हम जोड़ने का’
अमित शाह ने कहा कि आपने 5 साल भाजपा को दिए, आज असम विकास के रास्ते पर चल पड़ा है। अब छोटी-छोटी जनजातियों को जोड़कर विकास का कार्य किया जाएगा। पांच साल में कांग्रेस ने तोड़ा और हमने जोड़ने का काम किया।
‘कांग्रेस सत्ता में आई तो होगी घुसपैठ’
गृहमंत्री ने कहा कि कांग्रेस ने अपनी गोद में बदरुद्दीन अजमल को बैठाया है, अगर इनके हाथ में सत्ता आ गई तो, बे-रोकटोक घुसपैठ होगी। शाह ने कहा कि राहुल गांधी आए थे, असम की अस्मिता की बात करते हैं और बदरुद्दीन को साथ लेकर चलते हो? बोडोलैंड की समस्या असम को चैन से सोने नहीं देती थी आज समझौता कराकर बीजेपी ने असम में शांति कायम की है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *