मंदी की खबरों के बीच Parle का मुनाफा 15.2 फीसदी बढ़ा

नई दिल्‍ली। बिस्किट बनाने वाली देश की सबसे बड़ी कंपनी Parle प्रोडक्ट्स में करीब दो महीने पहले जहां मंदी की वजह से 10,000 नौकरियों पर खतरे की खबरें आ रही थीं, अब उसका मुनाफा 15.2 फीसदी बढ़ने की खबर है।
सोशल मीडिया पर Parle G के मुनाफे की खबरें ट्रेंड हो रही हैं और तेजी से शेयर हो रही हैं। लोग कह रहे हैं कि कुछ समय पहले जहां कहा जा रहा था कि लोगों के पास पारले जी के 5 रुपये के बिस्किट खरीदने तक के पैसे नहीं हैं, वह कंपनी मुनाफा कमा रही है।
Parle बिस्किट्स का मुनाफा
पारले प्रोडक्ट्स ग्रुप की इकाई पारले बिस्किट्स को कारोबारी साल 2018-19 में शुद्ध मुनाफा 15.2 फीसदी बढ़ा है। पारले बिस्किट्स का मुनाफा बढ़ने की खबर इसलिए अहम है क्योंकि नुकसान की आशंका को देखते हुए बिस्किट मैन्युफैक्चरर्स ने सरकार जीएसटी कट की मांग की थी।
बिजनेस प्लेटफॉर्म टॉफ्लर के मुताबिक पिछले वित्त वर्ष में Parle बिस्किट्स का शुद्ध मुनाफा 410 करोड़ रुपये रहा जो वित्त वर्ष 2017-18 में 355 करोड़ रुपये था। इस दौरान कंपनी को आमदनी में 6.4 फीसदी का इजाफा हुआ और वह बढ़कर 9,030 करोड़ रुपये हो गई। 2017-18 में यह आंकड़ा 8,780 करोड़ रुपये था।
पारले को मुनाफा, सोशल मीडिया ले रहा चुटकी
पारले जी के मुनाफे पर प्रतिक्रिया देते हुए बीजेपी के नेशनल इन्फॉर्मेशन ऐंड टेक्नोलॉजी इन्चार्ज अमित मालवीय ने ट्वीट कर कहा, कुछ दिनों पहले ‘एललाइटेंड इकनॉमिस्ट’ हमें बता रहे थे कि लोग 5 रुपये का पारले जी बिस्किट पैक नहीं खरीद पा रहे हैं? खैर कंपनी का मुनाफा 15.2 फीसदी बढ़ा है और आमदनी भी 6.4 फीसदी बढ़कर 09,030 करोड़ रुपये हो गई है।
पारले ने कहा था, जा सकती हैं 10000 नौकरियां
बता दें कि अगस्त में पारले बिस्किट्स ने कहा था कि अगर सरकार ने जीएसटी कट की मांग नहीं मानी तो हमें अपनी फैक्टरियों में काम करने वाले 8,000-10,000 लोगों को निकालना पड़ेगा। GST लागू होने से पहले 100 रुपये प्रति किलो से कम कीमत वाले बिस्किट पर 12 पर्सेंट टैक्स लगाया जाता था। कंपनियों को उम्मीद थी कि प्रीमियम बिस्किट के लिए 12 पर्सेंट और सस्ते बिस्किट के लिए 5 पर्सेंट का GST रेट तय किया जाएगा। हालांकि, सरकार ने दो साल पहले जब GST लागू किया तो सभी बिस्किटों को 18 पर्सेंट स्लैब में डाला गया। इसके चलते कंपनियों को इनके दाम बढ़ाने पड़े, जिसका असर सेल्स पर पड़ा।
पारले की सेल
पारले-जी, मोनैको और मैरी बिस्किट बनाने वाली पारले की सेल 10,000 करोड़ रुपये से ज्यादा होती है। 10 प्लांट ऑपरेट करने वाली इस कंपनी में एक लाख एंप्लॉयी काम करते हैं। पारले के पास 125 थर्ड पार्टी मैन्युफैक्चरिंग यूनिट हैं। कंपनी की सेल का आधा से ज्यादा हिस्सा ग्रामीण बाजारों से आता है।
नीलसन ने घटाया था बिस्किट सेक्टर में ग्रोथ का अनुमान
जुलाई में मार्केट रिसर्च कंपनी नीलसन ने FMCG सेक्टर के लिए 2019 का अपना ग्रोथ अनुमान 11-12 पर्सेंट से घटाकर 9-10 पर्सेंट कर दिया था। कंपनी ने ग्रामीण क्षेत्रों की डिमांड सुस्त होने के कारण ऐसा किया। नीलसन ने कहा था कि सुस्ती का असर सभी फूड और नॉन-फूड कैटेगरी पर पड़ रहा है। इसका सबसे बुरा असर नमकीन, बिस्किट, मसाले, साबुन और पैकेट वाली चाय पर देखने को मिल रहा है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *