अमेरिका: यहूदियों के प्रार्थना स्‍थल से सभी बंधक 10 घंटे बाद मुक्‍त

अमेरिका के टेक्‍सास में एक बंदूकधारी ने यहूदियों के एक प्रार्थना-स्‍थल (सिनेगॉग) में घुसकर कई लोगों को बंधक बना लिया था। राज्य के गवर्नर ग्रेग एबॉट ने रविवार को कहा कि सभी बंधकों को शनिवार देर रात टेक्सास के एक प्रार्थना-स्‍थल में घंटों तक चले गतिरोध के बाद छुड़ा लिया गया है। एबॉट ने ट्वीट में लिखा, ‘प्रार्थनाएं स्वीकार हो गईं। बाहर आए सभी बंधक जीवित और सुरक्षित हैं।’ गवर्नर ने कहा कि बंदूकधारी ने एक दोषी आतंकवादी की रिहाई की मांग की थी और कई लोगों को बंदी बना लिया था।
करीब 10 घंटे के संकट के बाद एबॉट का ट्वीट भारतीय समयानुसार रविवार सुबह आया। न्यूज़ एजेंसी एएफपी की रिपोर्ट के मुताबिक मौके पर मौजूद पत्रकारों ने एबॉट की घोषणा से ठीक पहले प्रार्थना-स्‍थल पर एक जोरदार विस्फोट और गोलियों की बौछार की आवाज सुनी थी। इससे कुछ घंटे पहले एक बंधक को सकुशल रिहा कर दिया गया था। हालांकि यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि कुल कितने लोगों को बंधक बनाया गया था।
चिंता में यहूदी संगठन और इजरायल सरकार
रिपोर्ट्स के मुताबिक प्रार्थना-स्‍थल में कम से कम चार लोगों को बंधक बनाया गया था। इस गतिरोध ने अमेरिका के यहूदी संगठनों और इजरायली सरकार के बीच चिंता पैदा कर दी है। वाइट हाउस के अनुसार राष्ट्रपति जो बाइडन को भी बंधकों की स्थिति के बारे में जानकारी दी गई थी। पुलिस ने बताया कि उन्हें शनिवार सुबह डलास के पश्चिम में लगभग 40 किमी की दूरी पर कोलीविले में बेथ इज़राइल कांग्रेगेशन में एक आपात स्थिति के बारे में सूचना मिला। जल्द ही उन्हें पता चल गया कि कुछ लोगों को बंदूक की नोक पर बंधक बनाया गया है।
अज्ञात स्थानों पर बम रखने का दावा
एबीसी न्यूज़ ने बताया कि बंधक बनाने वाला शख्स हथियारबंद था और उसने अज्ञात स्थानों पर बम रखने का दावा किया था। शुरुआती जानकारी के अनुसार, कथित बंदूकधारी ने अपनी पहचान मुहम्‍मद सिद्दीकी के रूप में बताई थी। अमेरिकी मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, वह खुद को आफिया सिद्दीकी का भाई बता रहा था जो एक FBI एजेंट की हत्‍या के लिए 86 साल जेल की सजा काट रही है।
‘लेडी कायदा’ का भाई होने का दावा
रिपोर्ट में एक अमेरिकी अधिकारी के हवाले से बताया गया कि वह आफिया सिद्दीकी की रिहाई की मांग कर रहा था, जिसे अमेरिकी मीडिया ने ‘लेडी कायदा’ करार दिया था। हालांकि बाद में स्पष्ट हो गया कि आफिया सिद्दीकी का भाई ह्यूस्टन में है। आफिया के भाई के वकील ने सफाई दी कि बंदूकधारी आफिया का भाई नहीं है। वकील ने कहा कि उनके क्‍लाइंट कानूनी एजेंसियों को फोन कर-करके बता रहे हैं कि वे इस पूरे घटनाक्रम में शामिल नहीं हैं।
इस्लाम को लेकर लगाए नारे
एसोसिएटेड प्रेस की रिपोर्ट के अनुसार सिनेगॉग में चल रहे अनुष्‍ठानों का फेसबुक पर सीधा प्रसारण किया जा रहा था। इसी दौरान एक शख्‍स वहां बंदूक लेकर घुस आया। लाइवस्‍ट्रीम में यह तो नहीं दिखा कि वहां क्‍या हो रहा है मगर कई बार इस्‍लाम को लेकर उस शख्‍स के जोर-जोर से चिल्‍लाने की आवाजें आईं। कथित रूप से बंदूकधारी ने अपनी बहन और इस्‍लाम का बार-बार जिक्र किया।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *