इंडिया गेट पर जलने वाली अमर जवान ज्‍योति का नेशनल वॉर मेमोरियल में विलय, एयर मार्शल बलभद्र राधाकृष्‍ण ने समारोह की अध्‍यक्षता की

नई दिल्‍ली। इंडिया गेट पर जलने वाली अमर जवान ज्‍योति का नेशनल वॉर मेमोरियल में विलय हो गया। शुक्रवार दोपहर विलय की प्रक्रिया शुरू हुई। केंद्र सरकार ने साफ किया है कि इंडिया गेट पर लौ बुझाई नहीं जा रही है, उसके एक हिस्‍से का विलय किया जा रहा है। अमर जवान ज्‍योति का एक हिस्‍सा नेशनल वॉर मेमोरियल के अमर चक्र में जलने वाली लौ से मिलाया गया। एयर मार्शल बलभद्र राधा कृष्‍ण ने समारोह की अध्‍यक्षता की। इंडिया गेट पर पिछले 50 साल से अमर जवान ज्‍योति जल रही है। 25 फरवरी 2019 को नेशनल वॉर मेमोरियल में अमर जवान ज्‍योति प्रज्‍जवलित की गई थी।
सेना के रिटायर्ड कई अफसर इसे सही कदम बता रहे हैं। उनका कहना है कि जब तक अपना युद्ध स्मारक नहीं था तब तक अमर जवान ज्योति के सहारे युद्ध में सर्वोच्च बलिदान देने वाले अपने सैनिकों की याद करना सही था, लेकिन अब जब राष्ट्रीय युद्ध स्मारक बन गया है तो इसे अमर जवान ज्योति को अलग से बनाए रखने की जरूरत नहीं है।
वॉर मेमोरियल में अमर जवान ज्योति को मिलाना सही
1971 के युद्ध में हिस्सा ले चुके आर्मी के पूर्व डेप्युटी चीफ लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) बीएस यादव ने भी अमर जवान ज्योति को शिफ्ट करने करने के फैसले का समर्थन किया है। उन्होंने कहा, ‘जब हमारी सरकार ने हमारे योद्धाओं और जवानों की याद में तात्कालिक तौर पर अमर ज्योति के तौर पर स्मारक बनाने की आज्ञा दी थी। उस वक्त हमारा युद्ध स्मारक नहीं था। अब हमारे पास राष्ट्रीय युद्ध स्मारक है तो यह उचित होगा कि वॉर मेमोरियल के अंदर ही अमर जवान ज्योति को मिला दिया जाए।’
जहां हमारे शहीदों के नाम, वहीं जले अमर जवान ज्योति
मेजर जनरल (रिटायर्ड) जीडी बख्शी ने कहा कि जहां हमारे सभी सैनिकों को नाम अंकित हैं, वहां अमर जवान ज्योति का जाना बिल्कुल उचित है।
उन्होंने कहा, ‘1971 युद्ध में जीत के बाद सशस्त्र बलों ने युद्ध स्मारक बनाने की मांग की तब तत्कालीन सरकार ने कहा कि यह पैसे की बर्बादी होगी। तब प्रथम विश्वयुद्ध में शहीद जवानों की याद में बने इंडिया गेट के नीचे ही अमर जवान ज्योति स्थापित करके तात्कालिक तौर पर 1971 युद्ध के शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी गई। अमर जवान ज्योति बनाने का मकसद ही तात्कालिक था। विजन यह था कि जब कभी भी अपना वॉर मेमोरियल बनेगा तब इस वहीं शिफ्ट कर दिया जाएगा। 70 वर्ष के बाद वॉर मेमोरियल बन गया तो कुछ लोग कह रहे हैं कि अमर जवान ज्योति को वहां शिफ्ट नहीं करना चाहिए। लेकिन, देश में एक ही वॉर मेमोरियल होना चाहिए और समारोह भी वहीं होने चाहिए।’
उन्होंने कहा अंग्रेजों के इंडिया गेट को हमारी सरकार के राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर तवज्जो नहीं दी जा सकती है। जनरल बख्शी ने कहा, ‘जो कहते हैं कि अमर जवान ज्योति से लोगों की भावनाएं जुड़ी हुई हैं तो आप उसे वहीं रख सकते हैं, लेकिन समारोह तो राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में ही होने चाहिए। वहां 1947-48 का युद्ध, गोवा ऑपरेशन, 1962 ऑपरेशन, 1965 वॉर, 1971 वॉर, कारगिल वॉर से लेकर हाल ही में गलवान में जान गंवाने वाले जवानों और ताजा-ताजा शहीद हुए जवानों के नाम खुदे हैं। उसी स्थल पर हमारे एक-एक शहीद जवान के नाम अंकित हैं। इसलिए अगर कोई राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर ब्रिटिश वॉर मेमोरियल को प्राथमिकता देना चाहता है तो मैं उसके समर्थन में नहीं हूं।’
भारतीय सेना के पूर्व डीजीएमओ लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) विनोद भाटिया ने कहा, ‘आज 50 साल बाद अमर जवान ज्योति को राष्ट्रीय युद्ध स्मारक के ज्योति में मिलाया जा रहा है ये बहुत ही अच्छा फैसला है क्योंकि अमर जवान ज्योति (इंडिया गेट) पर ब्रिटिश भारतीय सैनिकों का नाम है वो हमारे पूर्वज थे।’
हर वर्ष 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस परेड का आंखों देखा हाल बयां करने वाले ब्रिगेडियर (रिटायर्ड) चित्तरंजन सावंत ने अमर जवान ज्योति को राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में मिलाने के फैसले का स्वागत किया। उन्होंने कहा, ‘इंडिया गेट अंग्रेजों का बनाया युद्ध स्मारक है। उसके नीचे अमर जवान ज्योति 1971 के युद्ध में बलिदान हुए हमारे जवानों के लिए बनाई गई है। वहीं, राष्ट्रीय युद्ध स्मारक 1947 से अब तक जान गंवाने वाले जवानों की याद में बनाया गया है। अमर जवान ज्योति भी राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में सम्मिलित हो जाएगी।’
पूर्व नौसेना चीफ एडमिरल अरुण प्रकाश ने कहा, ‘अंग्रेजों ने इंडिया गेट का निर्माण प्रथम विश्वयुद्ध और उससे पहले के युद्धों में मारे गए 84 हजार जवानों की याद में किया था। बाद में तात्कालिक तौर पर अमर जवान ज्योति बनाई गई। अब हमारे पास राष्ट्रीय युद्ध स्मारक है। इसलिए, अब ज्योति को वहीं मिलाना उचित होगा।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *