पहले भी मुख्यमंत्री व केंद्रीय मंत्री को ब्‍लैकमेल कर चुका है Alok Kumar

नोएडा। पहले भी मुख्यमंत्री व केंद्रीय मंत्री को ब्‍लैकमेल कर चुका है Alok Kumar, जी हां, केंद्रीय मंत्री व सांसद डॉ. महेश शर्मा से दस करोड़ रुपये ऐंठने के प्रयास मामले के मुख्य आरोपी Alok Kumar व उसके साथी एक मुख्यमंत्री व केंद्रीय मंत्री का वीडियो बनाकर ब्लैकमेल कर चुके थे। मुख्य आरोपी आलोक कुमार की गिरफ्तारी हो चुकी है, अब पर्दा उठेगा कि कितने रुपये वसूले गए थे।

पुलिस सूत्रों का कहना है कि आरोपी महिला पत्रकार नीशू से पूछताछ में पता चला है कि डॉ. महेश शर्मा प्रकरण से पहले आरोपी एक मुख्यमंत्री व एक केंद्रीय मंत्री का वीडियो बनाकर पैसे वसूल चुके हैं। आलोक ब्लैकमेलिंग का धंधा काफी दिनों से कर रहा है।

केंद्रीय मंत्री डॉ महेश शर्मा को ब्लैकमेल करने वाला आरोपी आलोक कुमार गिरफ्तार हो गया है। गौरतलब है कि वह केंद्रीय मंत्री व सांसद डॉ. महेश शर्मा से दस करोड़ रुपये ऐंठने के प्रयास कर रहा था।

क्या था मामला
केंद्रीय मंत्री व सांसद डॉ. महेश शर्मा को बंद हो चुके प्रतिनिधि चैनल के संचालक आलोक कुमार एक कथित महिला पत्रकार नीशू के साथ मिलकर ब्लैकमेल कर दस करोड़ की मांग कर रहे थे। सोमवार को पुलिस ने आरोपित युवती को गिरफ्तार किया था। नीशू सात दिन की पुलिस रिमांड पर है। जहां उससे पूछताछ की जा रही है। डीजीपी ने एसएसपी वैभव कृष्ण को मामले की तह तक जाने के निर्देश दिए हैं।

चार बड़े नेता थे रडार में
पूछताछ में निशू ने स्वीकार किया था कि दिल्ली-एनसीआर के हाईप्रोफाइल चार बड़े नेता उनके गिरोह के रडार पर थे। इनमें सत्ताधारी व विपक्षी दलों के नेता शामिल थे। हालांकि अभी मामला शुरुआती चरण में मामला था। निशू ने बताया था कि वह लोग पहले भी इस तरह की ब्लैकमेलिंग कर चुके हैं। उन्होंने उद्योगपति से लेकर बिल्डर व अन्य बड़े लोगों से पैसों की उगाही भी की है।

संगठित गिरोह चलाता है ब्लैकमेलिंग का
पुलिस के मुताबिक प्रतिनिधि चैनल बंद होने के बाद चैनल मालिक के पास कोई काम नहीं था। उसी दौरान उसने कुछ लोगों के साथ मिलकर ब्लैकमेलिंग शुरू कर दी। इसमें कुछ महिलाएं भी शामिल हैं। इस गिरोह के लोग पहले पत्रकार बनकर बड़े नेताओं व अन्य लोगों से संपर्क करते हैं और धीरे धीरे ब्लैकमेलिंग पर उतर जाते हैं। इस बार केंद्रीय मंत्री डॉ. महेश शर्मा को जब ब्लैकमेल करने का प्रयास किया तो पोल खुल गई।

-एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *