आगरा: घर पर लिंग परीक्षण करते महिला गिरफ्तार

आगरा में एक महिला को घर पर प्रसव पूर्व लिंग परीक्षण करते हुए पकड़ा गया था। यह महिला खुद को नर्स बताती थी। मौके से पोर्टेबल अल्ट्रासाउंड मशीन बरामद की गई है। हालांकि लिंग परीक्षण के गिरोह का सरगना सहित दो मौके से फरार हो गए हैं।
राजस्थान से आई पीसीपीएनडीटी की टीम ने बताया कि उन्हें सूचना मिली थी कि आगरा में एक घर में प्रसव पूर्व लिंग परीक्षण हो रहा है। वहां लिंग परीक्षण के लिए अधिकांश महिलाएं राजस्थान से आती थीं। भरतपुर, दौसा और धौलपुर की कई महिलाओं के गर्भस्थ शिशु का लिंग परीक्षण कर गर्भपात कराया गया। राजस्थान में फैले इस रैकेट को पकड़ने के लिए जाल बिछाया गया।
टीम ने एक डमी गर्भवती के साथ एक सहायक महिला को आगरा में लिंग परीक्षण के लिए भेजा। जब नर्स से बात हुई तो उसने उन लोगों को सुबह हीरादास बाग, भरतपुर बस स्टैंड पर बुलाया। यहां उन्हें अनुराधा का पति जितेंद्र मिला, उसने लिंग परीक्षण के लिए 30 हजार रुपये लिए।
उसके बाद जितेंद्र उन लोगों को बस से ईदगाह बस स्टैंड लेकर पहुंचा। यहां से सभी ऑटो से टेढ़ी बगिया हाथरस रोड पर सद्दीक भाई के घर पहुंचे। यहां किराए पर रह रही झोलाछाप नर्स रुखसार बेगम ने लिंग परीक्षण में लड़की बताकर गर्भपात के लिए सौदेबाजी शुरू कर दी। सौदेबाजी के दौरान टीम ने छापा मार दिया।
टीम के छापा मारते ही रुखसार का पति रुपये लेकर भाग निकला। हालांकि पुलिस ने रुखसार बेगम के पास मिले 10 हजार रुपये और पोर्टेबल मशीन जब्त कर गिरफ्तार कर लिया। राजस्थान पीसीपीएनडीटी निदेशक रघुवीर सिंह ने बताया कि लिंग परीक्षण के लिए 10 से 15 हजार रुपये लिए जाते थे जबकि गर्भवात के 10 से 15 हजार रुपये अलग से वसूले जाते थे। उन्होंने बताया कि गिरफ्तार आरोपियों को गुरुवार को भरतपुर कोर्ट में पेश किया गया। जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया है।
-Legend News