आगरा: नगर निगम में भ्रष्टाचार को लेकर प्रेस कांफ्रेंस

आगरा। आगरा नगर निगम का भारी भरकम बजट और उसका भरपूर उदारता से खर्च होने के बावजूद महानगर की शक्‍ल न बदली जा सकी। इसे लेकर आज आगरा नगर निगम के पार्षद शिरोमणि सिंह तथा कांग्रेस के स्‍थानीय नेताओं ने एक प्रेस कांफ्रेंस की ज‍िसमें नगर न‍िगम में भारी भ्रष्‍टाचार के आरोप लगाए।

प्रेस कांफ्रेंस में जानकारी देते हुए कहा गया कि नगर निगम जनता के पैसे से करवाये जाने वाले काम अनुभवी ठेकेदारों से न करवा कर मनमाने तरीके से करवाता रहा है। अब तो हद यह हो गयी है कि उन लोगों को ठेके दिये जा रहे है जो कि खुद न करके अपना ठेका दूसरी कंपनियों से करवा रहे हैं। ऐसे में निगम के द्वारा करवाये जा रहे निर्माण कार्यों में न तो गुणवत्‍ता है और न हीं वे टिकाऊ ही हैं। सड़कें, मैनहोल कवर, नालियों, नालों की दीवारें आदि बनने के कुछ ही दिन में गिरासू हुए जा रहे हैं। सड़कों के फुटपाथ की बदहाली अपने आप में एक पूरी व्‍यथा कथा है।

टेंडर देने में मेयर की मनमानी

घटिया निर्माण करवाने के मामले जनता के सामने आने से बेपरवाह निगम ने अब कमला नगर के मेन मार्केट के कामों का ठेका नौ करोड रूपये में उठाया गया है, चिंता इस बात की नहीं कि किस कंपनी या ठेकेदार को काम करने को दिया गया है। मुद्दा यह है कि इसे जिस तरह से ठेकेदार को दिया गया है, वह कर भी पायेगा या नहीं। यह ठेका 1,22 प्रतिशत अधिक धनराशि पर उठाया गया है।

प्रेस को संबोध‍ित करते हुए वक्‍ताओं ने कहा क‍ि जीआरसी इंफ्राटेक कंपनी के नाम कमला नगर मेन मार्केट के काम का ठेका दिया गया है, जिसे एक अन्य कंपनी गर्ग रिसर्फेसिंग कंपनी, जिसको डमी कंपनी माना जा रहा है। टेंडर में लगाये गये कई डॉक्यूमेंट भी मूल कंपनी के हैं जो कि फाइल की सरसरी निगरानी में ही सामने आ सकते हैं।

मुख्य आरोप या आपत्ति है कि एक दम नयी अनुभव हीन कंपनी को नौ करोड़ के काम के ठेके में टेंडर डालने को कैसे योग्य मान लिया गया। यह नगर निगम के निर्माण विभाग के भ्रष्टाचार का मानक मामला है।

हमारा मानना है कि लोक निर्माण विभाग या किसी अन्य तकनीकी जानकारियों से संबंधित विभाग से टेंडर डॉक्यूमेंट और इसे लेने के लिये ठेकेदार की न्यूनतम योग्यता के बारे में जांच पड़ताल करवायी जाये तो अनियमितता स्वतः ही सामने आ जायेगी।

पूरे शहर की सड़कें खुदी पड़ी हैं, जमकर जगह जगह जल भराव हो रहा है, सड़क पर गड्ढे हैं। एक ओर जहां मेयर और नगर निगम प्रशासन पैसे की कमी बता कर छोटे मोटे कामों से भी हाथ खड़े कर कर रहा है, वहीं दूसरी ओर मेयर के अपने पसंदीदा एरिया में कार्य के लिए टेंडर कम प्रतिशत पर, मानकों को धता बता कर अपनी मनपसंद कंपनियों को कार्य दिलवा रहे हैं।

नगर निगम के द्वारा पूरे शहर में होर्डिंग लगा कर – समस्या के निवारण के लिए फ़ोन नंबर दे कर, जनता से उन्हें बताने को कहा है। जबकि हकीकत यह है कि पिछले चार सालों से नगर निगम के द्वारा प्रदत्‍त अधिकांश सेवायें प्रतीकात्मक सी होकर रह गयी हैं। अब मेयर होर्डिंग प्रचार कर नागरिकों को लुभाने की कोशिश कर रहे हैं।

देखने में आ रहा है के मेयर जो कि पूरे आगरा के हैं, वो आगरा की उत्तरी विधानसभा में ज्यादा से ज्यादा काम करा रहे हैं। इस के पीछे उनकी क्या मंशा है? क्या वो इस क्षेत्र से विधानसभा का चुनाव लड़ना चाहते है? अगर ऐसा है, तो वो खुल कर कहें और पूरे आगरा के साथ अन्याय ना करें। सबसे दिलचस्प और भाजपाइयों के संज्ञान में लाए जाने का मुद्दा है कि उत्तरी क्षेत्र के मौजूदा विधायक भी सत्ता दल के ही हैं किन्तु उनके कहने से कोई काम नहीं हो रहा है बल्कि उनकी सिफारिश से अगर कोई काम होता भी लग रहा है तो उसको करवाने में जमकर व्यवधान डाला जाता है।

उपरोक्त भाजपाइयों और नगर निगम पर काबिज मेयर और भाजपाईयों का आंतरिक कलह से जुड़ा मामला है, हमारी चिंता तो महानगर की जनता की परेशानी को लेकर है जिसके सारे काम पैसे की कमी को लेकर अटका दिये जाते हैं।

आगरा पिछले ३० सालों से महानगर पीने के पानी की समस्या से जूझ रहा है, अब तो गंगा जल भी आ गया फिर भी नागरिकों में से अधिकांश को पानी खरीद कर ही पीना पड़ रहा है और पानी की समस्या से झुझ रहा है। गंगा जल के आलावा भी बहुत से विकल्प हैं। जल कल विभाग हाथ पर हाथ रख कर बैठा है। मेयर कहने पर भी कुछ करवा नहीं पा रहे हैं।

नगर निगम की आमदनी का एक बड़ा जरिया विज्ञापन राजस्व है, किन्तु वह भी मेयर के कार्यकाल में काफी घट गया है। नवीन जैन के मेयर बनने से पूर्व विज्ञापन से आमदनी उठान पर थी और ५ करोड़ का आंकड़ा छू रही थी लेकिन सिर्फ ३ साल के आकड़ों का अध्यन करें तो देखने में आया क‍ि आमदनी कम होती जा रही है।

2019-2020 में आमदनी Rs 2,68,80,957 थी तो वहीं यह घटकर वर्ष 2020-2021 में 2,30,24,915.90 हो गई जबक‍ि एक स‍ितंबर तक के आंकड़े बता रहे हैं क‍ि यह 1,02,87,399.60 पहुंच गया।

कांग्रेस के शहर अध्यक्ष श्री देवेन्‍द्र कुमार चिल्‍लू ने कहा “डबल इंजन की सरकार, भ्रष्टाचार के साथ नगर निगम को मेयर, घर की कंपनी की तरह चला रहे हैं। उनके खर्चे का हिसाब नगर निगम के मुख्य वित्त और लेखा अधिकारी के पास नहीं हैं जबकि हर साल नगर निगम का वित्त का लेखा जोखा ऑडिट होता है और विधान सभा के पटल तक में रखा जाता है। कांग्रेस नगर आयुक्त से मांग करती है के जल्द से जल्द मेयर के खर्चे के हिसाब को जनता के सामने रखे. कम से कम निगम पार्षदों को तो निगम के ऑडिट शीट की जानकारी होनी ही चाहिये।  जल्दी ही कांग्रेस इस मुद्दे पर आंदोलन करेगी।

सिविल सोसाइटी ऑफ़ आगरा के सेक्रेटरी अनिल शर्मा ने कहा – “हम चाहते हैं के नगर निगम की आमदनी बढे। जब तक आमदनी नहीं बढेगी, नगर की साफ सफाई कैसे होगी। हम हर उस पार्टी के साथ हैं, जो आगरा के विकास की बात करेगा।”

कांग्रेस पार्षद डा. शिरोमणि सिंह ने पत्रकारों को बताया कि निगम के भ्रष्टाचार की लड़ाई वह दलगत आधार पर नहीं लड़ रहे हैं, यह जनता की लड़ाई के तौर पर उन्होंने ली हुई है। वह अपनी पार्टी के अकेले पार्षद जरूर है किन्तु इस संघर्ष में जनता का साथ उन्हें है। भ्रष्टाचार राजनैतिक मुद्दा नहीं है, बल्कि जिस पार्टी के लोग इसमें संलिप्त होते हैं वह पार्टी स्वयं को स्वत कमजोर महसूस करने लगती है। खुशी है कि आगरा की जागरूक जनता ने इसे महसूस करवा दिया है और भाजपाइयों ने इसे स्वयं महसूस भी कर लिया है। मेरा तो सरकार, आयुक्त के अलावा भाजपाईयों से ही खास आग्रह है कि वह पार्टी की कमेटी बनाकर नगर निगम की सेवाओं और कार्यों में आयी गिरावट की स्‍वयं जांच करवायें।

श्री नवीन जैन के आते ही कई बदलाव किये गए। ठीक उसी तरह से जैसे अब टेंडर दिए जा रहे हैं। विज्ञापन कंपनियों के बीच साल में कॉन्ट्रैक्ट निरस्त कर के अपनी चहेती कंपनी को टेंडर कर स्थापित किया. परिणाम आमदनी बढ़ने के स्थान पर लगातार घटना शुरू हो गयी। डबल इंजन सरकार है, इसलिये नगर विकास सचिव ने भी इसे समुचित तरीके से संज्ञान में नहीं लिया। वर्तमान में शहर में अनाधिकृत होर्डिंग की भरमार है, अनाधिकृत होर्डिंग लगा कर निर्धारित मानकों को तोड़ा है और साथ ही पैसे का भी नुकसान कराया है।

प्रेस कांफ्रेंस में देवेन्द्र कुमार चिल्लू शहर अध्‍यक्ष कांग्रेस, राम टंडन पूर्व शहर अध्‍यक्ष, भारत भूषण गप्पी वरिष्‍ठ कांग्रेस नेता, अनिल शर्मा सेक्रेटरी सिविल सोसाइटी ऑफ़ आगरा, अमित खत्री, अध्‍यक्ष एडवरटाइजिंग एसोसिएशन ऑफ़ आगरा अजहर वारसी, कोषाध्‍यक्ष कांग्रेस आगरा उपस्थित रहे।

  • Legend News
50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *