काव्य के विविध रंगों से सराबोर हुआ Agra Mahotsava का मंच

आगरा। कोठी मीना बाजार में चल रहे Agra Mahotsava के चौथे दिन जहाँ एक तरफ मंच पर जादूगर सम्मान समारोह व युवा कवि सम्मान समारोह आयोजित हुआ वही दूसरी ओर लोगो ने अपने जरुरत के सामान की खूब खरीदारी की | इन दिनों जैसे-जैसे दिवाली नज़दीक आ रही है तो लोगो को अपने घर व दफ्तर के सजावट के सामान के लिए आगरा महोत्सव पहली बना हुआ है |

Agra Mahotsava के मुक्ताकाशी मंच पर ताज मैजिक सोसाइटी की ओर से जादूगर सम्मान समारोह में शहर के जादूगरों को सम्मानित किया गया | कार्यक्रम की शुरुआत पार्थ सारथी शर्मा व शरद चौहान दीप प्रवज्ज्लन कर की | मंच से अखिलेश जैसवाल, एस कुमार, जितेंद्र बघेल, शैलेन्द्र कश्यप, संजय कश्यप, जेपी सम्राट का प्रतीक चिन्ह दे कर सम्मानित किया |

कार्यक्रम के दूसरे सत्र में आराधना संस्था की ओर से युवा कवि सम्मलेन का आयोजन किया हुआ | संस्था ने ताजनगरी की काव्य प्रतिभाओं को प्रोत्साहित करने के लिए आगरा महोत्सव में कवयित्री सलोनी राना को ‘आराधना साहित्य सम्मान’ से भी नवाजा गया। इस काव्य अनुष्ठान का शुभारंभ मुख्य अतिथिगण जिलाधिकारी आगरा की धर्मपत्नी डॉ हेमलता और सांसद आगरा की धर्मपत्नी श्रीमती मधु बघेल ने किया। संस्थाध्यक्ष पवन आगरी और महासचिव डॉ ह्रदेश चौधरी ने अन्य कविगण भरतदीप माथुर, ऐलेश अवस्थी, भगवान सहाय, योगी सूर्यनाथ, नूतन अग्रवाल, यशचंद्रिका सिंह और दीक्षा नाज़ को ‘आराधना सृजन सम्मान’ भेंट किया। सभी कवियों ने कविता के विविध रंग बिखेर कर पांडाल में उपस्थित जनसमूह की भरपूर तालियाँ बटोरीं। मंच सञ्चालन अमित सूरी ने किया | सांस्कृतिक मेला प्रभारी पीपी सिंह चौहान ने मंच की व्यवस्था संभाली |

मेला समन्वयक मनीष अग्रवाल ने बताया कि आगरा की प्रमुख व्यापारिक संस्थाओं की ओर से फर्नीचर, इंटीरियर, ऑटोमोबाइल, खाद्य पदार्थ, किचिन वेयर, इलेक्ट्रोनिक्स, सहारनपुर का फर्नीचर, खुर्जा की पोटरी, भादौई का कार्पेट, बरेली का बांस फर्नीचर, बनारस का अचार, जयपुर का चूरन, बम्बई की भेलपुरी, तंदूर की चाय, लखनऊ के चिकन का कुर्ता, कलकत्ता की साड़ियां, पटियाला की जूतियां और गुजरात का हेंडीक्राफ्ट, राजस्थान का चटखारा, बच्चो के लिए खिलोने, जेंट्स की नेहरू जैकेट भी उपलब्ध है | इस अवसर पर प्रमुख रूप से सुरेंद्र कुमार, दिशांत जैसवाल, अवदेश लवानियां, अनुज परमार, मिडिया प्रभारी विमल कुमार आदि प्रमुख रूप से मौजूद रहे |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »