IIT रुड़की के ट्रेकिंग दल से प्रशासन का संपर्क टूटा, संपर्क साधने की कोशिश

देहरादून। उत्तराखंड में टिहरी जिले के गंगी से केदारनाथ के लिए रवाना हुए IIT रुड़की के 19 छात्रों और 5 पोर्टर समेत 24 सदस्यों के ट्रेकिंग दल से संपर्क कट गया है। ट्रेकिंग दल के बारे में कोई सूचना न मिलने पर प्रशासन और पुलिस सतर्क हो गया है। 22 सितंबर को रवाना हुए IIT के इस दल को मयाली टॉप से वासुकीताल होते हुए केदारनाथ पहुंचना था।
दल का पता न चल पाने और इस दल से फिलहाल कोई संपर्क नहीं हो पाने से यह कयास लगाए जा रहे हैं कि मौसम खराब होने की वजह से ट्रेकिंग दल संभवत: कहीं रास्ते में कैंप लगाकर रुक गया है। दल को खोजने के लिए पुलिस की एक टीम को वासुकीताल के लिए रवाना कर दिया गया है। IIT प्रशासन की ओर से पुलिस अधीक्षक रुद्रप्रयाग पीएन मीणा से संपर्क किए जाने के बाद पुलिस भी ट्रेकिंग दल से संपर्क साधने की कोशिश कर रही है।
पुलिस टीम ट्रेकिंग दल की खोज में रवाना हो गई है। इस टीम में उखीमठ थाने के प्रभारी होशियार सिंह, तीन कॉन्स्टेबल, तीन एसडीआरएफ के जवान, तीन पोर्टर और दो स्थानीय गाइड शामिल हैं। रुद्रप्रयाग के एसपी पीएन मीणा के अनुसार यह ट्रेकिंग मार्ग विषम भूगोल वाला है।
हिमाचल में सभी 45 छात्र सुरक्षित
उधर, IIT रुड़की से 45 छात्रों का एक दल 18 सितंबर को हिमाचल प्रदेश के मनाली में हैम्पता पास की ट्रेकिंग पर गया था। दल में तीन छात्राएं भी शामिल हैं। 24 सितंबर को इस दल को संस्थान वापस लौटना था लेकिन हिमाचल प्रदेश में मौसम खराब होने के कारण सोमवार को संपर्क टूट गया था। हालांकि अब सभी को रेस्क्यू कर लिया गया है। संस्थान की ओर से जारी बयान के अनुसार सभी छात्र सुरक्षित हैं। रुड़की के सिविल लाइंस कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक अमरजीत सिंह ने बताया कि दल से संपर्क हो गया है और सभी छात्र सुरक्षित हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *