ADB ने चीन की 3 कंपनियों को नेपाल में काम करने से रोका

एशियाई विकास बैंक ने चीन की निर्माण फर्मों के खिलाफ बड़ा कदम उठाया है। स्थानीय मीडिया ने जानकारी देते हुए बताया कि एशियाई विकास बैंक (ADB) ने चीन की तीन बड़ी निर्माण कंपनियों को नेपाल के प्रमुख हवाई अड्डे के निर्माण कार्य में भाग लेने से रोक लगा दी है। ‘द काठमांडू पोस्ट’ ने बताया कि मनीला स्थित बहुपक्षीय वित्त पोषण एजेंसी के भ्रष्टाचार विरोधी कार्यालय ने चीन की तीन राज्य समर्थित कंपनियों को अखंडता के नियमों का उल्लंघन करने की सजा दी है।
दो कंपनियों को किया ब्लैकलिस्ट
इन तीन प्रतिबंधित कंपनियों में सीएमसी इंजीनियरिंग कंपनी, नार्थवेस्ट सिविल एविएशन एयरपोर्ट कंस्ट्रक्शन ग्रुप और चाइना हार्बर इंजीनियरिंग कंपनी शामिल हैं। लगभग 24 कंपनियों ने काठमांडू में त्रिभुवन अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा की अंतिम विकास परियोजना में 10 अरब नेपाली रुपये की बोली लगाकर दस्तावेज खरीदे थे। द काठमांडू पोस्ट की रिपोर्ट के अनुसार बोली लगाने वाली 24 कंपनियों में से सिर्फ चार चीनी कंपनियों ने ही दस्तावेज सौंपे थे। द काठमांडू पोस्ट ने नेपाल के नागरिक उड्डयन प्राधिकरण के शीर्ष अधिकारी का हवाला देते हुए बताया कि चार कंपनियों में से दो कंपिनयों को एशियाई विकास बैंक ने ब्लैक लिस्ट किया है।
एशियाई विकास बैंक ने किया प्रतिबंधित
नेपाल के नागरिक उड्डयन प्राधिकरण के अधिकारी ने बताया कि इन कंपिनयों को एशियाई विकास बैंक की अखंडता गाइडलाइंस के तहत ब्लैक लिस्ट किया गया है। साथ ही एशियाई विकास बैंक की ओर से वित्तीय सहायक परियोजनाओं के तहत प्रतिबंधित सूची में भी डाला गया है। नेपाल की सरकारी खरीद के विशेषज्ञ ने काठमांडू पोस्ट को बताया कि कंपिनयों को केवल एशियाई विकास बैंक की वित्तीय सहायक परियोजनाओं के लिए ही ब्लैक लिस्ट किया गया है।
एशियाई विकास बैंक के अखंडता नियम सबके लिए एक समान
अधिकारियों के अनुसार अभी कंपनियां जिन प्रोजेक्ट्स पर काम कर रही हैं, उन पर यह कार्रवाई लागू नहीं होगी लेकिन अगर एशियाई विकास बैंक इन कंपनियों के बुरे काम और उन्हें प्रतिबंधित करने के बारे में नेपाल के पब्लिक खरीद निगरानी कार्यालय को सूचित करता है तो नेपाल के लिए इन कंपनियों को ब्लैक लिस्ट करना काफी आसान हो जाएगा। अधिकारियों ने बताया कि एशियाई विकास बैंक की सभी परियोजनाओं के लिए अखंडता के नियम एक समान हैं।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *