अदार पूनावाला ने कहा, जुलाई तक ट्रैक पर आएगा वैक्सीन का प्रोडक्शन

नई दिल्‍ली। एक ओर देश में जहां टीकाकरण का तीसरा चरण शुरू हो चुका है, जिसमें 18 साल से ऊपर के सभी लोगों को वैक्सीन लगाई जानी है वहीं दूसरी ओर सीरम इंस्टीट्यूट के सीईओ अदार पूनावाला ने कहा है कि अगले कुछ महीनों तक वैक्सीन की दिक्कत झेलनी पड़ेगी।
उन्होंने कहा कि अभी प्रतिमाह 60-70 मिलियन यानी 6-7 करोड़ डोज की कैपेसिटी है और जुलाई तक ये क्षमता 10 करोड़ डोज प्रति माह हो जाएगी। उन्होंने फाइनेंशियल टाइम्स को दिए एक इंटरव्यू में ये कहा है कि 2-3 महीनों तक वैक्सीन की कमी से जूझना होगा, जुलाई तक सब कुछ ट्रैक पर आएगा। अभी कोरोना वायरस की दूसरी लहर इतनी भयावह हो चुकी है कि हर रोज 4 लाख से भी अधिक नए मामले सामने आ रहे हैं।
नहीं मिल रहे थे ऑर्डर, इसलिए नहीं बढ़ाई क्षमता
पूनावाला ने अपने इंटरव्यू में कहा है कि उन्होंने वैक्सीन के प्रोडक्शन की क्षमता को और अधिक इसलिए नहीं बढ़ाया था, क्योंकि उन्हें ऑर्डर कम मिल रहे थे। उन्होंने चेताते हुए कहा कि जुलाई तक वैक्सीन की कमी रहेगी। उन्होंने कहा कि उनके पास ऑर्डर नहीं आ रहे थे और उन्होंने ये सोचा भी नहीं था कि उन्हें साल भर में 1 अरब से भी अधिक डोज बनानी होंगी। अब न केवल भारत, बल्कि पूरी दुनिया वैक्सीन की किल्लत झेल रही है।
केस घटने लगे, तो सरकार ने हल्के में लिया कोरोना को
फाइनेंशियल टाइम्स ने पूनावाला को कोट करते हुए कहा है कि पूनावाला कहते हैं जब जनवरी में कोरोना के मामले घटने लगे तो सरकार ने इसे बहुत ही हल्के में लेना शुरू कर दिया। उन्होंने कहा कि हर किसी को लग रहा था कि भारत ने कोरोना को हराना शुरू कर दिया है। पिछले ही महीने सरकार ने सीरम इंस्टीट्यूट को 3000 करोड़ रुपये एडवांस दिए ताकि वैक्सीन की डोज बनाने की क्षमता को बढ़ाया जा सके।
कितने रुपये की है कोविशील्ड वैक्सीन?
सीरम इंस्टीट्यूट के अदार पूनावाला के अनुसार कोविशील्ड के लिए आपको 700 रुपये तक चुकाने पड़ सकते हैं। यह वैक्सीन राज्य सरकारों को 300 रुपये (पहले 400 रुपये थी कीमत) और निजी अस्पतालों को 600 रुपये में मिलेगी। यानी वैक्सीन की कीमत और लगवाने के चार्ज समेत आपको निजी अस्पतालों में 700 रुपये के करीब चुकाने पड़ सकते हैं। यह कीमतें 1 मई से लागू हो गई हैं। इससे पहले तक केंद्र सरकार को सिर्फ 150 रुपये प्रति खुराक की दर से कोविशील्ड वैक्सीन दी जा रही थी।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *