ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर से पीड़ित हैं अभिनेत्री दीपिका पादुकोण

मुंबई। आपके आसपास कुछ लोग ऐसे होंगे, जो हर बार कहीं बैठने या किसी भी चीज को छूने से पहले उसे व्यवस्थित करते हैं। दरअसल, ऐसे लोगों को ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर (OCD) बीमारी होती है। बॉलीवुड एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण भी इसी बीमारी से पीड़ित हैं। दरअसल, एक्ट्रेस ने घर पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए अपने वॉर्डरोब को व्यवस्थित करने की झलक दिखाई है।
34 वर्षीय अभिनेत्री ने अपने इंस्टाग्राम पर एक तस्वीर शेयर की थी, जिनमें उनके कपड़े हैंगर में खूबसूरती से टंगे दिखाई दे रहे थे। उन्होंने पोस्ट को कैप्शन देते हुए लिखा है कि चीजों को व्यवस्थित रखने की बात आती है तो दीपिका बहुत खास होती है। मीडिया रिपोर्टस के अनुसार वह न केवल अपने स्थान पर चीजों को व्यवस्थित करती हैं बल्कि अपने दोस्त के यहां भी चीजों को मैनेज करने में भी शामिल होती हैं। तो आइए जानते हैं कि क्या है दीपिका की यह ओसीडी बीमारी।
​क्या है ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर (OCD)
ओसीडी एक मानसिक स्वास्थ्य स्थिति है जो कंपल्सिव बिहेवियर को जन्म देती है। इसमें लोग अक्सर यह सुनिश्चित करते हैं कि उन्होंने फलाना काम कर दिया है या नहीं। ऐसी आदतें उन्हें ज्यादा सुरक्षित महसूस कराती हैं। आसान शब्दों में ओसीडी का मतलब किसी चीज की दोहरी जांच करने से है। ओसीडी से पीडि़त किसी व्यक्ति को कुछ चीजें बार-बार करने के लिए मजबूर होना पड़ता है। फिर भले ही वह चाहे या नहीं।
यह उनके जीवन को अनाश्वयक रूप से जटिल बना देता है। सबसे आम गतिविधियों में से कुछ जो ओसीसीडी लोग करते हैं, वह चीजों को बार -बार गिनना, बार-बार हाथ धोना, ज्यादा साफ-सफाई करना या देखना कि क्या दरवाजे और खिड़कियां बंद है, ताला लगा लिया है या नहीं। ये गतिविधियां कभी-कभी इस हद तक बढ़ जाती हैं कि इससे वे अपने जीवन को भी खतरे में डाल देते हैं।
आसपास की जगहों को साफ करना शुरू कर देती हैं दीपिका
ज्यादातर लोगों के लिए चीजों को व्यवस्थित करने की आदत एक थैरेपी की तरह है। उन्होंने एक वेबसाइट से बात करते हुए बताया है कि बहुत से लोगों के लिए चिंता का कारण हो सकता है, लेकिन मेरी ओसीडी मुझे परेशान नहीं करती।
वास्तव में दीपिका के लिए बहुत थैरेपेटिक है। जब भी मैं किसी वेनिटी वैन में जाती हूं तो आसपास की जगहों को साफ करना शुरू कर देती हूं। हालांकि अभिनेत्री के लिए यह एक फन एक्टिविटी की तरह है । यहां हम आपको कुछ ऐसे संकेतों के बारे में बता रहे हैं, जो ओसीडी की ओर इशारा करते हैं।
ओसीडी के सामान्य लक्षण
जरूरत से ज्यादा साफ-सफाई करना: यदि आप अपनी किसन की अलमारी, ड्रेसिंग टेबल या घर के किसी अन्य स्थान की लगातार सफाई करते रहते हैं, तो संभावना है कि आप ओसीडी से पीड़ित हों। हालांकि यह ध्यान रखना बेहद जरूरी है कि किसी को ये बीमारी है या नहीं, इस बात को टेस्ट करने का कोई आसान तरीका नहीं है। जो लोग सफाई को लेकर ज्यादा उत्साही होते हैं, वे बस इतना चाहते हैं कि किसी भी तरह अशुद्धता को दूर कर दें। कीटाणुओं से छुटकारा पा लें। वे अपने घर को साफ करने और अपने आसपास सबकुछ व्यवस्थित करने में घंटों बिता देते हैं। इससे उन्हें उपलब्धि और आराम की भावना का अनुभव होता है।
बार-बार चीजों पर ध्यान देना
अगर आप किसी चीज को बार-बार ऑर्गेनाइज करते हैं और अपने हाथों को बार-बार ऐसा करने से नहीं रोक सकते, तो शायद आप ऑब्सेसिव कंपलसिव डिसऑर्डर की स्थिति से ग्रसित हैं। आपको इस बीमारी से जल्द ही छुटकारा पाने की कोशिश करनी चाहिए।
​गंदा या अशुद्ध महसूस करना
इस विकार के दौरान व्यक्ति को स्नान करने के बाद भी सबकुछ गंदा या अशुद्ध ही महसूस होता है। इसलिए बार-बार या तो वह हाथ धोता है या फिर नहाता है।
दूषित वस्तुओं को धोने की जरूरत महसूस होना
बेशक पीड़ित वस्तु को साफ कर दे, बावजदू उसे वह दूषित लगेगी और उसे इस वस्तु को धोने की जरूरत भी महसूस होगी। दिन में वह ऐसा एक या दो बार नहीं, बल्कि कितनी भी बार भी कर सकता है।
सतह को साफ करना
इस लक्षण में पीड़ित कहीं भी बैठने या किसी चीज को छूने से पहले साफ करता है। उन्हें लगता है कि वह अगर इन्हें छूएगा तो उसके हाथ गंदे हो जाएंगे इसलिए वह वस्तु को छूने के बाद हाथों को धोने और सतह को साफ करने जैसी एक्टिविटी करता रहता है।
अगर आपको भी दीपिका पादुकोण की तरह ओसीडी का सामना कर रहे हैं तो इसके बजाय अपना ध्यान किसी और चीज पर बंटाने का प्रयास करें। जो भी कम्पल्सिव विचार हों, पहली बार में ही उस पर ध्यान दें।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *