AAP ने भगवंत मान को पंजाब में CM पद का उम्मीदवार बनाया

आम आदमी पार्टी AAP ने संगरूर से लोकसभा सांसद भगवंत मान को पंजाब में अपना मुख्यमंत्री का उम्मीदवार बनाया है. मंगलवार को आम आदमी पार्टी प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने भगवंत मान के नाम की घोषणा की. पंजाब में 20 फ़रवरी को मतदान है.
पिछले हफ़्ते केजरीवाल ने एक मोबाइल नंबर जारी किया था और पंजाब के लोगों से मुख्यमंत्री उम्मीदवार की अपनी पसंद बताने के लिए कहा था. अरविंद केजरीवाल का कहना है कि पंजाब के लोगों ने भगवंत मान को पसंद किया है.
अरविंद केजरीवाल ने कहा, ”कई लोगों ने मुख्यमंत्री के लिए मेरा नाम डाल दिया. 93.3 फ़ीसदी लोगों ने सरदार भगवंत मान को पसंद किया है. आज आम आदमी पार्टी की तरफ़ से पंजाब के मुख्यमंत्री का चेहरा सरदार भगवंत मान को घोषित किया जाता है.”
अरविंद केजरीवाल ने कहा कि तीन फ़ीसदी लोगों ने सिद्धू का नाम लिया था.
हालांकि अरविंद केजरीवाल ने पिछले साल जून महीने में ही घोषणा कर दी थी कि आम आदमी पार्टी का पंजाब में मुख्यमंत्री उम्मीदवार कोई सिख ही होगा. तभी से साफ़ हो गया था कि भगवंत मान को ही अरविंद केजरीवाल मुख्यमंत्री का उम्मीदवार बनाएंगे.
भगवंत मान को मुख्यमंत्री उम्मीदवार बनाने की औपचारिक घोषणा के बाद अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, ”पंजाब में आम आदमी पार्टी के मुख्यमंत्री का चेहरा बनने के लिए सरदार भगवंत मान को बधाई. पूरा पंजाब आम आदमी पार्टी को एक उम्मीद की तरह देख रहा है. यह एक बड़ी ज़िम्मेदारी है और मैं इस बात को लेकर निश्चिंत हूँ कि भगवंत मान सभी पंजाबियों के चेहरे पर मुस्कान वापस लाएंगे.”
अरविंद केजरीवाल ने जनता की पसंद जानने के लिए जो तरीक़ा अपनाया था, उसे लेकर भी कई सवाल उठ रहे थे. अगर एक व्यक्ति अलग-अलग नंबर से दस बार फ़ोन या मैसेज करेगा तो इसे कैसे रोका जाएगा? केजरीवाल के इस तरीक़े को वैज्ञानिक सम्मत नहीं माना जा रहा था.
पंजाब यूनिवर्सिटी में राजनीतिक विज्ञान के प्रोफ़ेसर आशुतोष कुमार ने कहा था, ”पंजाब में आम आदमी पार्टी की छवि दिल्ली की पार्टी और ग़ैर-पंजाबियों की पार्टी की है. इसी छवि के कारण 2017 में अरविंद केजरीवाल पंजाब की सत्ता से दूर रह गए थे. इसी छवि को तोड़ने के लिए इन्होंने जनता की पसंद का शिगूफा छोड़ा है. केजरीवाल संदेश देना चाहते हैं कि वो पंजाबियों की पसंद से सब कुछ तय कर रहे हैं. अकाली इन्हें ग़ैर-पंजाबी होने को लेकर घेरते रहते हैं. जिस तरीक़े को इन्होंने जनता की पसंद जानने के लिए अपनाया है, वो साइंटिफिक मेथेड नहीं है.”
भगवंत मान पंजाब में आम आदमी पार्टी के प्रमुख हैं और संगरूर लोकसभा क्षेत्र से सांसद हैं. 2018 में अरविंद केजरीवाल ने पंजाब के पूर्व मंत्री और अकाली दल नेता बिक्रम सिंह मजीठिया पर अवैध ड्रग के कारोबार में शामिल होने के आरोप लगाने को लेकर माफ़ी मांगी थी. इसके बाद भगवंत मान ने पंजाब में आम आदमी पार्टी के प्रमुख से इस्तीफ़ा दे दिया था.
भगवंत मान पर शराब पीने के आरोप लगते रहे हैं. भगवंत भी कई मौक़ों पर स्वीकार कर चुके हैं.
उधर कांग्रेस ने अपने ट्विटर हैंडल से एक वीडियो पोस्ट किया है, जिसमें चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री के चेहरा के तौर पर पेश किया गया है. कांग्रेस ने यह वीडियो तब पोस्ट किया है, जब पंजाब कांग्रेस के प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू और मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के बीच मुख्यमंत्री की दावेदारी को लेकर टकराव की स्थिति बनी हुई है.
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *