Ghaziabad में निमार्णाधीन इमारत की जमीन धंसने से 64 मकान खाली कराये

गाजियाबाद। Ghaziabad में पिछले दिनों निर्माणाधीन इमारतों के गिर जाने के बाद आज फिर भारी बारिश के कारण खतरे में आए 64 मकानों को प्रशासन ने खाली कराया है। दिल्ली से सटे गाजियाबाद और गौतमबुद्ध नगर में गुरुवार को भारी बारिश लोगों के लिए आफत बन कर आयी।

Ghaziabad के थाना इंदिरापुरम इलाके की वसुंधरा कॉलोनी में भारी बारिश होने से एक निर्माणाधीन बहुमंजिला इमारत से सटी वार्ता लोक सोसाइटी के पास जमीन धंसने से 64 मकानों को खाली करवाया गया।

नगर पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर के मुताबिक वसुंधरा इलाके की वार्ता लोक सोसाइटी से लगी हुई बहुमंजिला निर्माणाधीन इमारत पिछले पांच साल से खाली पड़ी है। इसी इमारत के पास सड़क धंसने से इमारत पर खतरा मंडराने लगा इसी खतरे को भांपते हुए जिला प्रशासन ने वार्ता लोक सोसाइटी के 64 मकानों को खाली करवा दिया है।

मौके पर राष्ट्रीय आपदा राहत बल (एनडीआरएफ) की टीम मुस्तैद है। ग्रेटर नोएडा के थाना सूरजपुर इलाके में गुरुवार सुबह एक दो मंजिला मकान बारिश के कारण धराशायी हो गया हालांकि इस घटना में किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है।

दिल्ली से सटे खोड़ा इलाके में भारी बारिश के कारण एक दीवार के गिर जाने से हादसे में एक सात वर्षीय बच्ची की मौत हो गयी। हालांकि स्थानीय पुलिस अभी इस घटना की सूचना से इंकार कर रही है।

गाजियाबाद में रविवार को एक 5 मंजिला निर्माणाधीन इमारत गिर गई। इस घटना में अभी तक एक युवक की मौत और कइयों के गंभीर रूप से घायलो होने की खबर है। पुलिस फिलहाल इस पूरे मामले की जांच कर रही है। मामले की जांच कर रहे पुलिस अधिकारी के अनुसार यह इमारत मसूरी पुलिस थाना क्षेत्र के आकाश नगर में स्थित थी।

इस हादसे में राहुल नाम के एक शख्स की मौत हो गयी. मलबे में दबे लोगों में मजदूर या उनके परिवार के लोग हैं। इस इमारत में निर्माण कार्य पिछले कई महीनों से चल रहा था। हादसे की वजह कमजोर पिलर और इमारत के आसपास भरा बारिश का पानी माना जा रहा है। इमारत के निर्माण में घटिया सामग्री का प्रयोग किया गया।

भारी बारिश के कारण दिल्ली को राजनगर एक्सटेंशन से जोड़ने वाले एलिवेटेड रोड पर पानी जमा हो गया है इसके अलावा Ghaziabad शहर के गौशाला अंडरपास राजनगर आरडीसी कलेक्ट्रेट जिला मुख्यालय के आसपास और अन्य कई स्थानों पर जलभराव होने से वाहनों की अावाज जाम है।
-एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *