पीयूष जैन के कन्नौज वाले घर से आज भी मिला कैश और सोने से भरे 6 बक्से

कानपुर और कन्नौज में इत्र व्यापारी पीयूष जैन का घर ‘अलीबाबा और चालीस चोरों वाली गुफा’ जैसा रोमांच दे रहा है। पांच दिनों से यहां से जो कुछ निकल रहा है, उसे पूरा देश आंखें फाड़े देख रहा है। मंगलवार सुबह जैन के कन्नौज वाले घर से कैश और सोने से भरे हुए छह बक्से निकाले गए।
बक्से उठाने के लिए छह-छह लोग लगाने पड़े
इनमें से कुछ बक्से इतने भारी थे कि उन्हें छह-छह लोग उठाकर एसबीआई की गाड़ी में लाद रहे थे। इन बक्सों में 64 किलो सोना और 17 करोड़ रुपये कैश रखा हुआ था। यह कानपुर वाले घर से मिले 177 करोड़ रुपयों से अलग है। दोनों घरों से मिली नकदी को मिला दें, तो यह 194 करोड़ बैठती है। इसके अलावा मंगलवार को 64 किलो सोना भी सरकारी खजाने में पहुंचाया गया। उत्तर प्रदेश में पहली बार किसी के घर से इतना रुपया निकला है।
घर के बाहर जुट गई लोगों की भीड़
मंगलवार सुबह स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) की कैश वैन नोटों और सोने-चांदी से भरे बक्सों को लेने पहुंची। बक्सों को कैश वैन में लोड करते समय वहां सैकड़ों लोगों का हुजूम इकट्ठा हो गया। लोगों की भारी भीड़ के चलते अधिकारियों और पुलिसकर्मियों को बक्से कैशवैन में लोड करने में भारी मशक्कत करनी पड़ी। नोटों से भरे इन बक्सों को स्थानीय एसबीआई की ब्रांच में रखवाया जाएगा, वहां से इन्हें आरबीआई भेज दिया जाएगा।
कन्नौज वाले घर से क्या-क्या मिला?
पीयूष जैन के कन्नौज स्थित घर पर 13 घंटे तक नोटों की गिनती चली, जिसके बाद कुल 17 करोड़ रुपये कैश बरामद हुआ। पीयूष जैन के घर पर दीवारें तोड़कर तहखाना ढूंढ निकाला गया, जिसमें नोटों की गड्डियां और सोने के बार मिले। पीयूष के घर से 64 किलो सोने के बिस्किट मिले हैं, जिन पर विदेशी मार्क हैं। घर में छिपाकर रखा गया 600 किलो चंदन का तेल भी मिला है। बाजार में इसकी कीमत करीब 6 करोड़ रुपये है।
14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया
इत्र कारोबारी पीयूष जैन के कानपुर और कन्नौज स्थित घरों पर छापेमारी की प्रक्रिया मंगलवार को आखिरकार 5 दिनों बाद खत्म हुई। छापेमारी के दौरान दोनों घरों से 196 करोड़ रुपये कैश, 64 किलो सोना और 250 किलो चांदी मिली है। कोर्ट ने उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। इस बीच यूपी चुनाव से ठीक पहले इतनी बड़ी कैश रिकवरी के बाद वह सियासत के केंद्र में आ गए हैं।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *