50 साल के अजब चोर की गजब कहानी

गुजरात के पंचमहल में पुलिस ने एक 50 साल के दोपहिया वाहन चोर को गिरफ्तार किया है। इस चोर ने बीते बीस वर्षों में 1,500 दोपहिया वाहन चोरी किए। पुलिस की पूछताछ में उसने बताया कि वह अपराध की दुनिया छोड़ना चाहता था लेकिन समाज के व्यवहार ने उसे इस दुनिया से बाहर नहीं आने दिया। इस चोर के साथ दिलचस्प बात यह भी है कि वह चुराई हुई गाड़ियां बेचता नहीं था बल्कि दूसरों को बांट देता था। फिलहाल पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है।
पुलिस ने बताया कि बुधवार को अरविंद कुमार जयंतीलाल बाइक से कहीं जा रहा था। गोधरा में चेकिंग के दौरान पुलिस ने उसे धर दबोचा। पुलिस ने बताया कि वह मेहसाणा के लुनवा गांव का रहने वाला है। उसने पूछताछ में बताया कि वह 1996 से दोपहिया वाहन चुरा रहा है। दीवाली के बाद से अब तक उसने 19 बाइकें चुराईं। उसे पहले भी गिरफ्तार किया जा चुका है। वह दीवाली पर ही जेल से रिहा हुआ था।
गोधरा के डीएसपी आर आई देसाई ने बताया कि गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने अरविंद के पास से 19 चोरी की बाइकें बरामद की हैं। उन्होंने बताया कि अधिकांश दोपहिया वाहन वडोदरा शहर और ग्रामीण इलाके से चुराए गए थे। पुलिस ने बताया कि अरविंद शराब का लती है और उसकी दो पत्नियां हैं।
अधिकारी के मुताबिक वह गाड़ियां चुराता था लेकिन उन्हें बेचता नहीं था। उसकी चोरी की आदत है इसलिए वह बाइकें चुराकर स्टोर कर लेता था। बाद में उन्हें ले जाकर यहां-वहां खड़ी कर देता था या फिर किसी और को चलाने के लिए दे देता था।
पुलिस की पूछताछ में अरविंद ने बताया कि वह चोरी की आदत छोड़ चुका था और एक आश्रम में काम करने लगा था। इसके बाद उसने सुरक्षा गार्ड की नौकरी भी की। अरविंद ने कहा कि उसने कई जगह नौकरी की लेकिन समाज के लोग उसे स्वीकार नहीं कर रहे थे। आखिर परेशान होकर उसने फिर से बाइकें चुरानी शुरू कर दीं।
पुलिस ने बताया कि उसके पास से सात चाबियां बरामद हुई हैं। वह बाइकें चुराने के लिए उन जगहों को चुनता था जहां पर कई बाइकें होती थीं। यहां तक की उसने एक बार चार पहिया वाहन भी चुराया था। उसने बताया कि वह चार पहिया वाहन उसी पुलिस वाले का था जिसने उसे गिरफ्तार किया था।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *