भारत के UPI से हुआ 214 फीसदी अधिक का र‍िकॉर्ड लेन-देन

नई द‍िल्ली। वर्ल्डलाइन एनुअल इंडिया डिजिटल पेमेंट ने हाल ही में एक र‍िपोर्ट जारी की है ज‍िसके अनुसार भारत में लोग डिजिटल लेनदेन के लिए UPI यानी यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस के इस्तेमाल से गत वर्ष 214 फीसदी अधिक का र‍िकॉर्ड लेन-देन क‍िया गया, र‍िपोर्ट में कहा गया है क‍ि यूपीआई के जरिए हर महीने करोड़ों का लेनदेन होता है।

भारत का UPI ना सिर्फ देश में, बल्कि वैश्विक स्तर पर भी काफी चर्चा में है। अब गूगल ने अपने प्रस्तावित ‘फेडनाउ’ के लिए अमेरिकी फेडरल रिजर्व को भारत के यूपीआई का हवाला दिया है। मालूम हो कि Fednau एक नई इंटरबैंक ग्रॉस सेटलमेंट सुविधा है। इसके लिए गूगल ने अमेरिकी फेडरल रिजर्व बोर्ड को भारतीय यूपीआई सिस्टम की पूरी जानकारी भी दी है।

इस संदर्भ में नवंबर में गूगल ने कहा था कि भारत के चार सबसे बड़े बैंकों के सहयोग से गूगल का यूपीआई कार्य कर रहा है। गूगल की सलाह है कि भारतीय यूपीआई जैसा सिस्टम अमेरिका में भी शुरू किया जाए। इससे फेडनाउ को बेहतर बनाया जा सकेगा।

भारत में ग्राहकों द्वारा 2019 में सबसे ज्यादा यूपीआई का इस्तेमाल क‍िया गया। यूपीआई के बाद डिजिटल पेमेंट के लिए डेबिट कार्ड, आईएमपीएस और क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल सबसे अधिक किया गया है।

4,462 अरब रुपये की है डिजिटल पेमेंट इंडस्ट्री
पिछले साल 2019 में यूपीआई, डेबिट कार्ड, आईएमपीएस और क्रेडिट कार्ड के जरिए कुल 20 लाख करोड़ से अधिक लेन-देन किया गया। एसोचैम पीडब्ल्यूसी द्वारा जारी की गई एक रिपोर्ट में कहा गया कि भारतीय डिजिटल पेमेंट इंडस्ट्री करीब 4,462 अरब रुपये की है। इसके साल 2023 तक 9,310 अरब रुपये से ज्यादा होने की संभावना है।

पूरे विश्व में डिजिटल पेमेंट में भारत की हिस्सेदारी 1.56 फीसदी है। आगामी चार वर्षों में यह 2.02 फीसदी हो सकती है।

यूपीआई 2019 में हुआ 18,36,000 करोड़ रुपये का लेन-देन
रिपोर्ट के अनुसार, 2019 में सबसे ज्यादा डिजिटल पेमेंट का इस्तेमाल पर्सन टू पर्सन लेन-देन के लिए किया गया है और इसके बाद इसके बाद पर्सन टू मर्चेंट। यूपीआई के जरिए 2019 में 18,36,000 करोड़ रुपये का लेन-देन किया गया। साल 2018 के मुकाबले यह 214 फीसदी अधिक है। आईएमपीएस में साल दर साल 55 फीसदी का इजाफा हुआ है। 2019 में इसके जरिए 21,80,000 करोड़ रुपये का लेन-देन हुआ। 2018 के मुकाबले यह 41 फीसदी अधिक है।

पिछले साल तक 143 बैंक प्रदान करते थे यूपीआई सेवा
दिसंबर 2019 के अंत तक 143 बैंक यूपीआई सेवा प्रदान कर रही थी। पिछले साल ही नौ और बैंकों ने यूपीआई सेवा देनी शुरू की थी। खास बात ये है कि लेन-देन की संख्या में बढ़ोतरी की मुख्य वजह बैंकों द्वारा यूपीआई 2.0 फीचर का इस्तेमाल करना रही है। इसकी वजह से ग्राहकों को आईपीओ एप्लीकेशन, डोनेशन और विभिन्न कैशबैक व डिस्काउंट बैंक और नॉन बैंकिंग सेवा प्रदाताओं द्वारा ऑफर किए गए हैं।

– एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *