सुपर Cyclone Amphan: बंगाल-ओडिशा में भारी बारिश, 2 की मौत

भुवनेश्वर/कोलकाता। 21 साल का सबसे तेज सुपर Cyclone Amphan बुधवार दोपहर ढाई बजे के करीब कोलकाता से टकराया। Cyclone Amphan की वजह से पश्चिम बंगाल के साथ-साथ ओडिशा में भी तेज हवाओं के साथ भारी बारिश हो रही है। बंगाल में Cyclone Amphan की वजह से दो लोगों की जान गई। बंगाल में 5 लाख और ओडिशा में करीब 1.58 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों तक पहुंचाया गया है।

मौसम विभाग के मुताबिक, तूफान जब बंगाल में दाखिल हुआ तो हवाओं की रफ्तार 190 किलोमीटर/घंटा थी। तूफान का लैंडफाल बंगाल के हटिया और बांग्लादेश के हटिया आईलैंड के बीच हुआ। बंगाल के एक अधिकारी ने बताया कि हावड़ा और नॉर्थ 24 परगना में तेज रफ्तार हवाओं की वजह से पेड़ उखड़ गए। दोनों ही जगहों पर दो महिलाओं की मौत हुई है।

NDRF एक चीफ एसएन प्रधान ने बताया कि 20 टीमों ने ओडिशा में सड़कों से पेड़ हटाने का काम शुरू कर दिया है। कुछ टीमों को स्टैंडबाई में रखा गया है। अधिकारी ने बताया कि कोलकाता में भारी बारिश की वजह से निचले इलाकों में घर और सड़कें बह गए हैं। यहां तूफान की वजह से 135 किलोमीटर/घंटा की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं।

ओडिशा के पुरी, खुर्दा, जगतसिंहपुर, केंद्रापाड़ा, कटक, भद्रक, बालासोर समेत कई जिलों में मंगलवार से ही भारी बारिश हो रही है। बुधवार को भी यहां भारी बारिश हुई। बंगाल और ओडिशा में गुरुवार तक भारी बारिश की आशंका है। तूफान की वजह से असम और मेघालय में भी बारिश होगी।

कितना बड़ा तूफान है? 

देश में 21 साल के बाद कोई सुपर साइक्लोन आया है। 1999 में एक चक्रवात ओडिशा के तट से टकराया था। उसे साइक्लोन ओ5 बी या पारादीप साइक्लोन का नाम दिया गया था।

कहां आया और कहां टकराएगा?

बंगाल की खाड़ी में। पश्चिम बंगाल के दीघा और बांग्लादेश के हटिया के बीच कहीं टकराएगा। ये इलाका विश्व धरोहर सूची में शामिल सुंदरबन के पास है।

तूफान से ओडिशा और बंगाल में कितने जिले प्रभावित हैं?

ओडिशा के 9 जिले पुरी, गंजाम, जगतसिंहपुर, कटक, केंद्रापाड़ा, जाजपुर, गंजाम, भद्रक और बालासोर प्रभावित हैं। पश्चिम बंगाल के तीन तटीय जिले पूर्वी मिदनापुर, 24 दक्षिण और उत्तरी परगना के साथ ही हावड़ा, हुगली, पश्चिमी मिदनापुर और कोलकाता पर इसका असर नजर आएगा।

कितने लोगों को सुरक्षित स्थान पर ले जाया गया?
पश्चिम बंगाल में 5 लाख से ज्यादा लोगों को सुरक्षित निकाला गया है। ओडिशा में 1 लाख 98 हजार से ज्यादा लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है।

बचाव के क्या इंतजाम किए गए है?
नेशनल डिजास्टर रिस्पॉन्स टीम यानी एनडीआरएफ की 41 टीमों की तैनाती की गई है। हर टीम में 45 लोग होते हैं। दक्षिण 24 परगना के डायमंड हार्बर में नेवी के गोताखोर तैनात किए गए हैं।

क्या स्पेशल ट्रेनों और उड़ानों पर असर पड़ा?
हां। बुधवार को चलने वाली हावड़ा-नई दिल्ली स्पेशल एसी एक्सप्रेस रद्द कर दी गई। गुरुवार को चलने वाली नई दिल्ली-हावड़ा स्पेशल भी रद्द है। कोलकाता एयरपोर्ट कल सुबह 5 बजे तक बंद कर दिया गया है।

तूफान से निपटने के लिए नेवी ने क्या इंतजाम किए?

पश्चिम बंगाल और ओडिशा में 20 जैमिनी बोट के साथ रेस्क्यू और मेडिकल टीम को तैयार रखा है। विशाखापट्टनम में आईएनएस देगा और अरकोणम में आईएनएस रजाली में नेवल एयरक्राफ्ट को किसी भी परिस्थिति में तैयार रहने को कहा है। पूर्वी नेवल कमांड ने कहा है कि हम साइक्लोन के दौरान जरूरी मदद देने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। राहत कार्यों के लिए नौसेना के जहाज स्टैंडबाय पर हैं। यह प्रभावित इलाकों में फंसे लोगों को निकालने, सामान पहुंचाने और जरूरी मेडिकल सहायता देने के काम करेंगे।

हवा की रफ्तार तेज

पश्चिम बंगाल के दीघा में मंगलवार को तेज हवाओं के साथ बारिश हुई। वहीं, कोलकाता में भी तेज बारिश और हवाएं चलीं। बुधवार को पारादीप में हवा की रफ्तार 102 किमी प्रति घंटा, चांदबाली में 74 किमी प्रति घंटा, भुवनेश्वर में 37 किमी प्रति घंटा, बालासोर में 61 किमी. प्रति घंटा और पुरी में 61 किमी प्रति घंटा तक पहुंच गई।

ममता ने शाह और पटनायक से बात की

इलाके खाली करने के लिए टॉवर सायरन भी बजाए गए। तूफान के हालात पर गृह मंत्री अमित शाह ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक से बात की। उन्होंने दोनों राज्यों को केंद्र की ओर से पूरी मदद देने का भरोसा दिलाया।
– एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *