ईमानदार होना होगा सभी को तभी होगा देश का विकास

मानव सृष्टि के जन्म के साथ ही किसी न किसी रूप में कर संग्रह की व्यवस्था की थी उसी कर से हर युग में राजा या शासक अपनी प्रजा की भलाई व उत्थान के लिए काम करते थे आज स्वतंत्र भारत में भी कर संग्रह की एक प्रणाली आयकर विभाग द्वारा जनता की आय पर कर लेकर भारत की नागरिकों को विभिन्न प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध कराती है

आयकर विभाग की स्थापना आज से 161 वर्ष पूर्व भारत में हुई थी इस वर्ष 2021 में आयकर विभाग द्वारा 161 वां आयकर स्थापना दिवस के रूप में व 11वाँ आयकर दिवस के रूप में मनाया जा रहा है 24 जुलाई वर्ष 2010 में पहली बार आयकर दिवस के रूप में वार्षिक उत्सव मनाने का निर्णय लिया गया था जब तत्कालीन महामहिम राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी वित्तमंत्री हुआ करते थे।यह दिवस अपने डेढ़ सौ वर्ष के इतिहास को भी स्मरण करता है.

24 जुलाई को ही आयकर दिवस क्यों चिन्हित किया गया क्योंकि 24 जुलाई 1960 को ही आयकर लगाने का अधिकार मिला था.
आपको जानकर आश्चर्य होगा भारत में 1857 में प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के दौरान हुए नुकसान की भरपाई के लिए भारत में 24 जुलाई, 1860 को सर जेम्स विल्सन द्वारा आयकर पेश किया गया था।

आयकर दिवस से पहले का सप्ताह देश भर में आयकर विभाग के क्षेत्रीय कार्यालयों द्वारा की गई विभिन्न गतिविधियों द्वारा चिह्नित है। करों के भुगतान को मूल्य मानदंड के रूप में बढ़ावा देने के लिए और संभावित करदाताओं को संवेदनशील बनाने के लिए देश भर में कई कार्यक्रम आमतौर पर हर साल आयोजित किए जाते हैं .

ऐसा माना जाता है करीब सात सालों से आयकर विभाग इस दिन किसी को भी परेशान नहीं करता, बल्कि वो तमाम कार्यक्रमों के जरिए देश के विकास में योगदान देने के लिए प्रोत्साहित करता है।आयकर विभाग का काम है, जनता और सरकार के बीच धन के लिए पुल का काम करना।
इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने इतनी लंबी यात्रा के बाद अपने काम काज में भी काफी बदलाव किया है। अब सरकारें भी ज्यादा से ज्यादा टैक्स वसूलने में लगी रहती हैं और इसके लिए बाकायदा ऑनलाइन टैक्स भरना भी शुरू हो चुका है। यही नहीं, इनकम टैक्स डिपार्टमेंट अपनी तरफ से भारत के नागरिकों को अलग अलग श्रेणी की आईडी भी जारी करता है, जो पूरे देश में मान्य होती है। इसे हम परमानेंट अकॉउंट नंबर कार्ड यानि पैन कार्ड नाम से भी जानते हैं।

मौजूदा समय में देश में 60,000 से भी अधिक लोग केंद्र सरकार के इस विभाग में कार्यरत हैं। और करीब 750ऑफिस पूरे देश भर में हैं।
यह निश्चित है करों का भुगतान सभी नागरिकों का एक नैतिक कर्तव्य था परंतु सरकार को भी अपनी नीति इस प्रकार बनानी होगी जिससे नागरिकों के कर का उचित निस्तारण करके उन्हें आत्म सुख मिल सके .

आयकर विभाग 2021 आयकर दिवस पर सभी आयकर दाताओं को सैल्यूट करता है। आपके ईमानदार योगदान ने देश को उंचाई पर पहुंचाया है। हम प्रण लें कि आगे भी हम देश को आगे बढ़ाने के लिए ऐसे ही अपना योगदान देते रहें।सभी विभाग राजस्व मंत्रालय व कर दाताओं को बधाई व शुभकामनाएँ

– राजीव गुप्ता जनस्नेही कलम से
लोक स्वर, आगरा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *