सीमित स्टॉपेज के साथ कल से चलेंगी 15 AC स्पेशल ट्रेनें

नई दिल्‍ली। लॉकडाउन के बीच देश में जहां तहां फंसे लोगों को अपने घर तक पहुंचाने के लिए रेलवे मंगलवार से 15 AC स्पेशल ट्रेनें चला रहा है।
रेल मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक इन ट्रेनों के सीमित स्टॉपेज हैं लेकिन यात्री इन स्टेशनों पर चढ़ और उतर सकेंगे। उदाहरण के लिए नई दिल्ली से पटना जाने वाली एसी स्पेशल ट्रेन कानपुर सेंट्रल, पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन (मुगलसराय) और प्रयागराज जंक्शन पर रुकेगी। इन स्टेशनों पर यात्री उतर और चढ़ सकेंगे। इससे पहले लॉकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों को ले जाने के लिए जो स्पेशल ट्रेनें चलाई गई थीं, उनमें बीच में चढ़ने या उतरने की व्यवस्था नहीं थी।
इसी तरह हावड़ा जाने वाली ट्रेन आसनसोल, धनबाद, पारसनाथ, गया, पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन (मुगलसराय), प्रयागराज जंक्शन और कानपुर सेंट्रल में रुकेगी। इन स्टेशनों पर यात्री चढ़ और उतर सकेंगे। इन 15 ट्रेनों में से अधिकांश ट्रेनें रोज चलेंगी जबकि कुछ सप्ताह में तीन दिन, कुछ दो दिन और कुछ केवल एक दिन चलेंगी। हावड़ा, पटना, डिब्रूगढ़, जम्मू तवी, मुंबई, अहमदाबाद, भुवनेश्वर और बेंगलूर के लिए रोज स्पेशल एसी ट्रेन चलेगी। अगरतला के लिए हफ्ते में एक दिन यह ट्रेन चलेगी।
शाम चार बजे शुरू होगी टिकट बुकिंग
आईआरसीटीसी की वेबसाइट से आज शाम चार बजे इन ट्रेनों के लिए टिकट बुकिंग शुरू होगी। ये टिकट ऑनलाइन ही लिए जा सकेंगे, काउंटर से नहीं मिलेंगे। इसका किराया राजधानी एक्सप्रेस के बराबर ही होगा। रेलवे के मुताबिक सभी यात्रियों के लिए मास्क पहनना अनिवार्य रहेगा। बिना मास्क वाले यात्रियों को यात्रा की अनुमति नहीं दी जाएगी। यात्रा से कम से कम एक घंटे पहले स्टेशन पहुंचना होगा। इसकी वजह यह है कि यात्रियों की स्क्रीनिंग होगी जिसमें समय लगेगा। जिन यात्रियों में कोरोना के लक्षण नहीं होंगे उन्हें ही यात्रा की अनुमति मिलेगी।
सभी यात्रियों के लिए मोबाइल फोन में आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करना अनिवार्य होगा। यह एप आपको कोरोना के बारे में आगाह करता है। इसके बिना बोर्डिंग नहीं मिलेगी। कंफर्म टिकट यात्री ही स्पेशल ट्रेनों में कर पाएंगे सफर। ट्रेन में कंबल और चादर की सुविधा यात्रियों को नहीं मिलेगी। इसलिए घर से ही कंबल या चादर ले जाना समझदारी है। सफर के रास्ते में खाने-पीने का कोई सामान नहीं मिलेगा। इसलिए घर से ही अपने खाने-पीने का प्रबंध करके चलें।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *