ED के छापे में CM चन्नी के रिश्‍तेदार से अब तक मिल चुके हैं 10.7 करोड़ रुपये

पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले प्रवर्तन निदेशालय ED की छापेमारी जारी है। पंजाब सीएम चरणजीत सिंह चन्नी के रिश्तेदार भूपिंदर सिंह हनी के आवासीय परिसर से 3.9 करोड़ रुपये और बरामद किए हैं। अब तक छापेमारी में 10.7 करोड़ रुपये बरामद हो चुके हैं। वहीं इस रेड पर सियासत गर्म हो गई है।
पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी के एक भतीजे और उनके कुछ सहयोगियों के लगभग एक दर्जन घरों और कार्यालयों में मगलवार को ईडी ने छापेमारी की थी। 2018 के अवैध रेत खनन मामले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग केस के तहत एक नई जांच चल रही है, उसी मामले में यह रेड की गई।
10 जगहों पर रेड
चन्नी के रिश्तेदार भूपिंदर सिंह हनी मोहाली में रहते हैं। मोहाली समेत लुधियाना और पठानकोट में 10 जगहों पर छापे मारे गए। छापेमारी 30 नवंबर, 2021 को दर्ज की गई प्रवर्तन मामला सूचना रिपोर्ट (ईसीआईआर) से संबंधित थी।
कहां-कहां हुई छापेमारी
2018 में मोहाली में पंजाब पुलिस की ओर से मामला दायर किया गया था। इसमें मुख्य आरोपी लुधियाना के व्यवसायी कुदरतदीप सिंह थे। भूपिंदर उन कंपनियों में निदेशकों में से एक हैं जिनके जरिए कुदरतदीप ने अवैध रेत खनन और मनी लॉन्ड्रिंग की। भूपिंदर के अलावा, उनके सहयोगी संदीप कुमार, जो ईडी स्कैनर के तहत एक कंपनी में निदेशक हैं, की संपत्तियों पर छापेमारी की गई। लुधियाना में शहीद भगत सिंह के एक घर और मोहाली में चार संपत्तियों सहित तीन परिसरों पर छापा मारा गया।
संपत्ति के दस्तावेज भी मिले
ईडी के सूत्रों ने कहा कि चन्नी के भतीजे और उनके सहयोगियों के परिसरों की तलाशी लेने पर संपत्ति से संबंधित कुछ दस्तावेज और 10 करोड़ रुपये से ज्यादा कैश मिला है। लुधियाना में भूपिंदर सिंह के आवासीय परिसर से 4 करोड़ रुपये और आवासीय परिसर से लगभग 2 करोड़ रुपये मिले।
इन धाराओं में दर्ज हुआ था केस
चंडीगढ़ में ईडी ने मोहाली के सेक्टर 70 में भूपिंदर सिंह के किराए पर लिए गए फ्लैट पर छापेमारी की। अधिकारियों ने बताया कि इस मामले में 7 मार्च 2018 को शहीद भगत के राहों थाने में खान एवं खनिज अधिनियम 1957 की धारा 21(1), 4(1) और आईपीसी की धारा 379, 420, 465, 467, 468 और 471 के तहत प्राथमिकी दर्ज की गयी थी। यह केस तब दर्ज हुआ था, जब तत्कालीन सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने राहों-फिल्लौर के बीच हेलिकॉप्टर से जाते समय अवैध खनन होते देखा। उस समय कुदरतदीप सिंह सहित 26 लोगों पर अवैध खनन के आरोप में मामला दर्ज किया गया था।
चरणजीत सिंह चन्नी ने लगाए आरोप
ईडी के छापे पर पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी ने चुनाव से पहले दबाव बनाने की कार्रवाई बताया है। उन्होंने कहा, ‘वेस्ट बंगाल के जब इलेक्शन हुए तो ममता बनर्जी के रिश्तेदारों पर भी ऐसे अटैक हुए थे। उसी पैटर्न पर अब पंजाब में ईडी प्रेशराइज करने की कोशिश कर रही है। परेशानी दे रही है। हर तरीके से दबाव बनाया जा रहा है। एक मंत्री पर नहीं, मुख्यमंत्री पर नहीं हर कांग्रेस के वर्कर पर दबाव बनाया जा रहा है। लोकतंत्र के लिए यह अच्छा माहौल नहीं है। इलेक्शन आ गए तो इनको ईडी की रेडें याद आ गईं। लेकिन हम ये सब दबाव झेलने के लिए तैयार हैं। परेशानियां जितनी देंगे उतनी लेने के लिए तैयार हैं। हम अपने चुनावी अभियान को आगे बढ़ाएंगे। ये किसी तरह उसको विफल नहीं कर सकते।’
चन्नी ने यह भी कहा कि यह मुझे, मेरे मंत्रियों और कांग्रेस कार्यकर्ताओं को निशाना बनाने के प्रयास के अलावा कुछ नहीं है। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि ईडी की कार्रवाई पीएम सुरक्षा उल्लंघन की घटना का प्रतिशोध हो सकती है।
आरोप-प्रत्यारोप जारी
छापेमारी ने राजनीतिक तूफान खड़ा कर दिया है क्योंकि सभी दलों के नेताओं ने सोशल मीडिया पर छापेमारी को लेकर आरोप-प्रत्यारोप का खेल शुरू कर दिया है। अलका लांबा ने ट्विटर पर कहा, “चुनावों के दौरान सीबीआई, ईडी और आईटी छापे भाजपा सरकार का एक उपकरण बन जाते हैं …”आम आदमी पार्टी के प्रमुख और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने भी छापे पर प्रतिक्रिया दी और कहा कि पंजाब के करीबी लोग सीएम चरणजीत सिंह चन्नी बालू खनन से जुड़े हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *