योगी शासन की धमक: अब अपराधी जेल से नहीं चला पाएंगे अपना ‘राज’

Direct warning to the Hooligan-punks of the CM Yogi: Rectify or leave the region, the garbage is getting cleansed
योगी शासन की धमक: अब अपराधी जेल से नहीं चला पाएंगे अपना ‘राज’

लखऩऊ। योगी शासन की धमक में अब अपराधियों के दिन ‘बदतर’ होने वाले हैं। अब माफिया सत्ता जेल से नहीं चला पाएंगे बसपा विधायक मुख्तार अंसारी, अतीक अहमद के बाद अब मुन्ना बजरंगी की भी जेल बदल दी गई है. पिछले करीब 15 दिनों में यूपी की जेलों में बंद करीब चार दर्जन खूंखार अपराधियों और सिद्धदोष बंदियों का ट्रांसफर सूबे की दूसरी जेलों में किया गया है.

जेल ट्रांसफर के साथ ही यूपी सरकार ने इन अपराधियों पर नकेल कसने के लिए नया तरीका भी निकाल लिया है. अब इन अपराधियों और सं​बंधित जेल पर कड़ी नजर रखने के लिए यूपी एसटीएफ और यूपी एटीएस को भी लगाया गया है.

44 अपराधियों का जेलों से ट्रांसफर

28 मार्च से अब तक कारागार प्रशासन प्रदेश के विभिन्न जेलों में बंद 44 खूंखार अपराधियों व सिद्धदोष बंदियों को दूसरी जेलों में ट्रांसफर कर चुका है. इनमें बसपा विधायक मुख्तार अंसारी को आगरा जेल से बांदा ट्रांसफर कर दिया गया है. इसी तरह अतीक अहमद को नैनी सेंट्रल जेल से देवरिया जेल भेजा गया. इसी क्रम में मुन्ना बजरंगी को जौनपुर जेल से पीलीभीत जेल ट्रांसफर किया गया.

जैमर लगाने के लिए धनराशि जारी

यूपी की ज्यादातर जिला जेलों में जैमर की सुविधा नहीं है. अभी 31 मार्च को ही शासन की तरफ से राज्य की 12 संवेदनशील जेलों में जैमर लगाने के लिए धनराशि जारी की गई. ऐसे में माना जा रहा था कि ट्रांसफर किए गए इन अपराधियों के लिए ये स्थानांतरण सजा कम सुविधा ज्यादा साबित हो सकता है.

वायरल हुई थी अतीक की फोटो

चाहे मुख्तार हों या अतीक अहमद, इन सभी का जेल के अंदर अपना अलग साम्राज्य चलाने के आरोप लगते रहे हैं. पिछले दिनों नैनी सेंट्रल जेल, जहां काफी कड़ाई रहने के दावे किए जाते हैं, वहां बैरक में अतीक अहमद की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हुई.
अपराधियों और जेल प्रशासन के गठजोड़ के मद्देनजर यूपी सरकार ने यूपी एसटीएफ और एटीएस को भी इन पर कड़ी नजर रखने की हिदायत दी है. निर्देश के पीछे कारण ये है कि माफिया अगर जेल प्रशासन से गठजोड़ करके सुविधा लेंगे तो एसटीएफ या एटीएस को सूचना हो जाएगी और मामले में शासन कड़ी कार्रवाई कर सकेगा. प्रमुख सचिव गृह देबाशीष पण्डा ने इस संबंध में 18 जिलों के डीएम को निर्देश जारी किए हैं. इनमें बस्ती, सीतापुर, गोंडा, ललितपुर, सहारनपुर, झांसी, बागपत, मुजफ्फरनगर, कन्नौज, फर्रूखाबाद, बलिया, आगरा, बांदा, खीरी, उन्नाव, देवरिया, मिर्जापुर, रामपुर शामिल हैं.

इन निर्देशों में कहा गया है कि-

1) प्रशासनिक आधार पर बंदियों का स्थानांतरण किया गया है. इनकी गतिविधियों पर कड़ी निगरानी रखी जाए और यह सुनिश्चित किया जाए कि उनकी ओर से जेल के अंदर किसी प्रकार की अनाधिकृत सामग्री और मोबाइल का उपयोग न किया जाए.

2) जेल में बंद खूंखार कैदियों को नियमानुसार मिलने वाली सुविधओं के अलावा कोई और सुविधा न मिले, यह भी सुनिश्चित किया जाए.

3) अगर शासन को इन बंदियों की ओर से किसी भी प्रकार की आपराधिक गतिविधियों के संचालन और प्रतिबंधित सामग्री का प्रयोग किए जाने की सूचना मिलती है तो संबंधित अधिकारी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई होगी.

डीजीपी को भेजी गई है निर्देशों की कॉपी  
इन निर्देशों की कॉपी प्रदेश के डीजीपी एस जावीद अहमद को भी भेजी गई है और कहा गया है कि अपने स्तर से यूपी एसटीएफ और यूपी एटीएस को निर्देश दें कि इन अपराधियों पर नजर रखें और कोई भी जानकारी होने पर तत्काल शासन को सूचित करें.

साथ ही डीजी कारागार प्रशासन से कहा गया है कि जेल अधिकारियों को इन निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करें.
– Legend News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *