मुस्लिम महिलाओं का harassment नहींं होने देंगे

अलीगढ़। तहसील दिवस में बैठे हुए छर्रा विधायक रविंद्र पाल सिंह जी ने कहा कि योगी सरकार में किसी भी मुस्लिम महिला का harassment नहीं होने दिया जाएगा भाजपा की सरकार इसके लिए कटिबद्ध है और प्रार्थिया का प्रार्थना पत्र सीओ तृतीय को अग्रेषित कर दिया एवम कहा कि जल्द ही आपकी FIR दर्ज करा दी जाएगी ।

आज दिनांक 3 जुलाई 2018 को एक पीड़िता तहसील दिवस पहुंची और अपने पति एवं ससुरालीजनों के harassment की दास्तान संबंधित अधिकारियों से बयान की । पीड़िता अंजुम कमाल पत्नी सलीम खान पुत्री सिकंदर अहमद हाल निवासी नगला पटवारी बरौली रोड थाना क्वारसी जिला अलीगढ़ की रहने वाली जो कि प्राइमरी स्कूल में शिक्षिका है ने बताया कि उनकी शादी 2005 में सलीम खान पुत्र रोनक हुसैन निवासी शहंशाह बाद गली नंबर 2 नाला रोड थाना क्वारसी जिला अलीगढ़ के साथ हुई थी ।

अंजुम के अनुसार उनके पिता ने शादी में अपनी सामर्थ्य से अधिक दहेज दिया परंतु अंजुम के पति सलीम ससुर रौनक सास व बजीरन बेगम जेठ बिननामी खान , शहजाद खान जेठानी मीना बेगम ,परवीन बेगम देवर रशीद खान देवरानी रिहाना ननंद अकीला बेगम और रुकसाना बेगम आदि शादी में दिए गए दान दहेज से संतुष्ट नहीं हुए और एक शिक्षिका अंजुम कमाल का मानसिक और शारीरिक उत्पीड़न दहेज के लिए करने लगे आरोप यह भी है कि यह लोग शिक्षिका की सारी तनख्वाह जबरन उसके ATM से निकलवा लेते हैं व शिक्षिका का अकाउंट खाली कर देते हैं ।

शिक्षिका के वर्तमान में तीन बच्चे हैं जिनकी पढ़ाई-लिखाई कपड़े आदि का खर्चा वह खुद उठाती हैं और उनके ससुरालीजनों को यह नागवार गुजरता है वह नहीं चाहते कि उनके बच्चे पढ़े-लिखे हैं एक बेहतर जिंदगी जिए । अंजुम कमाल ने अपने पिता के साथ मिलकर एक मकान का बैनामा कराया और अपनी नौकरी पर बैंक से कर्ज लेकर उस मकान को पूरा कराया । जब वहां रहने आई तो उनके ससुरालीजनों का दहेज रूपी दानव जाग गया और उन्होंने मांग रख दी यह मकान का बैनामा हमारे नाम कर दो उसके बाद तुम यहां पर रह पाओगी उसके पहले नहीं । और अंजुम को पुनः उक्त लोगों ने मारना पीटना शुरू कर दिया और दिनांक 02/05/2018 कोअंजुम को उसके तीनों बच्चों के साथ पहने हुए कपड़ों में मारपीट कर घर से निकाल दिया । अंजुम ने इसकी सूचना 100 नम्बर पर दी तब थाना क्वारसी की पुलिस मौके पर पहुंची पीड़िता का डॉक्टरी मुआयना कराया । चूंकि पीड़िता का जेठ शहजाद पुलिस में नौकरी करता है इसलिए उसके विरुद्ध कोई कार्यवाही नहीं हुई । इसके बाद पीड़िता ने दिनांक 18 जून 2018 को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अलीगढ़ के नाम व्यक्तिगत रूप से मिलकर एक पत्र इस संबंध में दिया जिस पर प्रार्थिया की कोई भी रिपोर्ट दर्ज नहीं हुई ।

इसके बाद दिनांक 19/06/2018 को जिलाधिकारी अलीगढ़ ,वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अलीगढ़ ,मुख्यमंत्री महोदय उत्तर प्रदेश के नाम पंजीकृत डाक से इसकी शिकायत की गई तथा 20 जून 2018 को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अलीगढ़ महोदय से मिलकर भी प्रार्थना पत्र दिया गया जिस पर जिलाधिकारी महोदय ने पुलिस अधीक्षक शहर को अग्रिम कार्यवाही करने को प्रेषित किया और इसके बाद तमाम बार पीड़ित महिला पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों के चक्कर लगा रही है ।

लगातार चक्कर लगाकर थक चुकी महिला ने आज तहसील दिवस में संबंधित अधिकारियों को इस बाबत प्रार्थना पत्र दिया इस दौरान उसके तीनों बच्चे उसके उसके साथ रहे प्रार्थिया ने संबंधित तहसील दिवस अधिकारियों से कहा कि मैं एक शिक्षिका हूं मेरी रिपोर्ट पुलिस दर्ज नहीं कर रही है तो एक आम औरत, एक आम अबला नारी की यहां पर क्या सुनवाई होती होगी जिस पर तहसील दिवस में बैठे हुए छर्रा विधायक रविंद्र पाल सिंह जी ने कहा कि योगी सरकार में किसी भी मुस्लिम महिला का उत्पीड़न नहीं होने दिया जाएगा भाजपा की सरकार इसके लिए कटिबद्ध है और प्रार्थिया का प्रार्थना पत्र सीओ तृतीय को अग्रेषित कर दिया एवम कहा कि जल्द ही आपकी FIR दर्ज करा दी जाएगी ।

पीड़िता को कहीं से भी कोई भी कानूनी मदद नहीं मिल रही है प्रार्थिया सरकारी शिक्षिका है तथा मानसिक अवसाद में जी रही है प्रार्थिया के ऊपर 3 बच्चे पालने का बोझ है । तीन बच्चे और खुद की जिंदगी पालने के लिए नौकरी काफी नहीं है क्योंकि उसके पास कुछ भी बचा हुआ नहीं है और सारा पैसा उसके ससुराल वाले पहले ही हजम कर चुके हैं । harassment का प्रार्थना पत्र दे दिया गया है आगे देखते हैं प्रशासन की कार्यवाही रहती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »