योगी सरकार की लोगों से अपील, घर पर आइसोलेट हो सकते हैं तो अस्पताल न जाएं

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस लगातार फैलता जा रहा है। यूपी में सबसे ज्यादा केस लखनऊ, कानपुर, प्रयागराज और वाराणसी में आ रहे हैं। इन शहरों में हाल-बेहाल हैं। आलम यह है कि अस्पतालों में बेड कम पड़ गए हैं। सरकार का कहना है कि यह युद्धस्तर पर बुनियादी ढांचे को बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं। बेड बढ़ाने का काम जोरों पर है।
सरकार ने लोगों से अपील की है कि अगर वे कोरोना वायरस से संक्रमित हैं और वे घर पर आइसोलेट हो सकते हैं तो वे अस्पताल न आएं। घर पर ही आइसोलेशन में रहें। जिला प्रशासन को निर्देश हैं कि सेल्फ आइसोलेशन वाले मरीजों के संपर्क में रहें और उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी लेते रहें।
स्वास्थ्य विभाग की टीम खुद करेगी संपर्क
एडिश्नल चीफ सेकेट्री सूचना नवनीत सहगल ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी लोगों से अपील की है कि कोरोना पॉजिटिव आने के बाद घबराएं नहीं। घर पर खुद को आइसोलेट कर लें। स्वास्थ्य विभाग की टीम घर पर उनसे संपर्क करेगी और उन्हें चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराएगी। उन्होंने कहा कि विशेषकर लखनऊ, प्रयागराज, कानपुर और वाराणसी में बिस्तरों की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए गए हैं।
कोरोना वायरस के ताजा मामले
बुधवार को लखनऊ-5,433, प्रयागराज-1,702, कानपुर-1221 और वाराणसी-1,585 में कोरोना वायरस के ताजा मामले सामने आए। यूपी में आए कुल कोरोना के मामलों में 48.46 फीसदी अकेले इन्हीं चार जिलों में मिले। लखनऊ ने लगातार दो दिनों में 5,000 से अधिक मामले सामने आए हैं। सीएम ने कहा कि लखनऊ में 840 अतिरिक्त बेड की व्यवस्था की गई है। आने वाले दिनों में यह संख्या बढ़ाई जाएगी।
रोज हो रहे 90,000 आरटीपीसीआर टेस्ट
इस बीच, गोरखपुर और झांसी और अन्य जिलों में बेड बढ़ाने के निर्देश दिए गए हैं। इनमें आईसीयू और आइसोलेशन बेड शामिल हैं। बुधवार को टीम -11 की बैठक के दौरान, सीएम ने कहा कि लोगों से भीड़-भाड़ वाले इलाकों में जाने और हर समय मास्क पहनने से बचने के लिए कहा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि आरटी पीसीआर परीक्षणों की संख्या बढ़ाई जानी चाहिए। वर्तमान में लगभग 90,000 आरटी पीसीआर परीक्षण हो रहे हैं जबकि सीएम ने कम से कम 1.5 लाख का लक्ष्य रखा है, जिससे कुल परीक्षण 2.5 लाख से अधिक हो गए हैं।
शहरों और ग्रामीण इलाकों में बन रहे क्वारंटीन सेंटर
सभी शहरों और गांवों में क्वारंटीन सेंटर बनाए जा रहे हैं जहां प्रवासी श्रमिकों के लिए व्यवस्था की जा रही है जो यूपी लौट रहे हैं। उन्हें भोजन उपलब्ध कराया जाएगा जबकि उनके परीक्षण की भी व्यवस्था की जाएगी। सीएम ने कहा है कि कोविड पॉजिटिव रोगियों के लिए डायलिसिस की व्यवस्था अलग से की जाए। सीएम ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वे यह सुनिश्चित करें कि अस्पतालों में ऑक्सिजन की पर्याप्त आपूर्ति हो।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *