Yeddyurappa की डी. शिवकुमार से मुलाकात के बाद सियासी कयास शुरू

Yeddyurappa से मुलाकात के बाद डीके शिवकुमार ने यह कहकर इन कयासों को बल दिया कि मैं और येदियुरप्‍पा बेहद करीबी मित्र हैं

बेंगलुरू। बीजेपी नेता और पूर्व मुख्‍यमंत्री BS Yeddyurappa द्वारा कर्नाटक की जेडीएस-कांग्रेस सरकार में सबसे पावरफुल मंत्रियों में शुमार डीके शिवकुमार से मुलाकात के बाद कहा जा सकता है कि सियासत में विकल्प कभी बंद नहीं होते हैं। राजनीतिक दल जरूरत के हिसाब से परिभाषा गढ़ते हैं। अगर ऐसा नहीं होता तो आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू इस बात का जिक्र नहीं करते कि आज राजनीतिक प्रतिबद्धता से ज्यादा जरूरी लोकतांत्रिक प्रतिबद्धता हो गई है। ये तो महज बयान के तौर पर उदाहरण को पेश किया गया है। इन सबके बीच कर्नाटक की सियासत में नए समीकरण बनते हुए नजर आ रहे हैं।

इस मीटिंग के बाद कर्नाटक के सियासी गलियारे में नए किस्‍म के राजनीतिक गठबंधन की सुगबुगाहट शुरू हो गई है।
कहा जा रहा है कि येदियुरप्‍पा के गृह जिले शिमोगा में कुछ सिंचाई प्रोजेक्‍ट काफी समय से लंबित पड़े हैं. उनको पूरा कराने के सिलसिले में ही वह शिवकुमार से मिलने गए थे। आधिकारिक रूप से इस मुलाकात के बारे में कहा गया कि शिमोगा जिले में शरावती नदी पर एक पुल की मांग लंबे समय से हो रही है। उसी पर चर्चा के लिए येदियुरप्‍पा ने शिवकुमार से मुलाकात की।

मुलाकात के बाद डीके शिवकुमार ने यह कहकर इन कयासों को बल दिया कि मैं और येदियुरप्‍पा बेहद करीबी मित्र हैं। जब येदियुरप्‍पा सत्‍ता में थे तो वे भी हमारी मदद करते थे।

कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता डीके शिवकुमार की अहमियत का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि जब इस साल कर्नाटक विधानसभा चुनाव में किसी भी दल को स्‍पष्‍ट बहुमत नहीं मिला और कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन बनाने का ऐलान हुआ तो उनको एकजुट बनाए रखने में उनकी ही निर्णायक भूमिका रही। इस चुनाव में बीजेपी सबसे बड़ा दल बन कर उभरी थी लेकिन उसके पास स्‍पष्‍ट बहुमत नहीं था। नतीजा यह हुआ कि अपेक्षित सात विधायकों के समर्थन के लिए उसकी नजर कांग्रेस और जेडीएस के असंतुष्‍ट विधायकों पर थी लेकिन कहा जाता है कि डीके शिवकुमार के कारण बीजेपी ऐसा करने में नाकाम रही। नतीजतन एचडी कुमारस्‍वामी के नेतृत्‍व में जेडीएस-कांग्रेस सरकार बनी। शिवकुमार को कैबिनेट मंत्री बनाया गया और दो बड़े मंत्रालयों का जिम्‍मा सौंपा गया।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »