यमुना एक्सप्रेसवे अथॉरिटी घोटाला: CBI ने अपने हाथ में ली जांच, 20 लोगों के नाम FIR

नई दिल्ली। यमुना एक्सप्रेसवे अथॉरिटी घोटाले की जांच CBI ने अपने हाथों में ले ली है। जांच एजेंसी ने अपनी FIR में अथॉरिटी के पूर्व CEO पीसी गुप्ता और 20 अन्य लोगों के नाम दर्ज किए हैं।
CBI के अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी। उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार की सिफारिश पर एजेंसी ने 126 करोड़ रुपये के जमीन खरीद घोटाले की जांच संभाली है।
उत्तर प्रदेश सरकार ने इस जुलाई, 2018 में इस मामले की CBI जांच की सिफारिश की थी। आरोप है कि यमुना एक्सप्रेस इंडस्ट्रियल डिवेलपमेंट अथॉरिटी के CEO गुप्ता ने अधिकारियों और कर्मचारियों को गठजोड़ बनाकर मथुरा के 7 गांवों में 19 कंपनियों की मदद से 85.49 करोड़ रुपये में जमीन की खरीद की थी। इसके बाद इस जमीन को अथॉरिटी को ऊंचे दामों पर बेचा गया, जिसके चलते 126 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ था।
इस जमीन खरीद घोटाले के आरोपी के तौर पर पुलिस ने पिछले दिनों ही बुलंदशहर से अजीत नाम के शख्स को गिरफ्तार किया है। जांच में पता चला है कि अजीत अथॉरिटी के तत्कालीन OSD का रिलेटिव है। इस मामले में अथॉरिटी के CEO रहे पीसी गुप्ता जेल में हैं। 15 दिसंबर को तत्कालीन ACEO सतीश कुमार को पुलिस ने अरेस्ट किया था। इस केस में कार्यवाही में ढील को लेकर शासन ने सख्त रुख अपनाया था।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *