World Drug Day: KD हॉस्पिटल में बताए गए नशा छोड़ने के उपाय

मथुरा। KD मेडिकल कॉलेज-हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर में आज World Drug Day और तस्करी निरोध दिवस मनाया गया। इस अवसर विशेषज्ञ मनोचिकित्सक डा. गौरव सिंह और डा. श्वेता चौहान ने कहा कि आज के समय में मादक द्रव्य दुरुपयोग सबसे गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं में से एक है। यह लत एचआईवी, हेपेटाइटिस, तपेदिक जैसे गंभीर रोगों का जनक होने के साथ ही समाज के समग्र पतन का भी प्रमुख कारण है।

WorldDrugDay और तस्करी निरोध दिवस पर डाक्टरों ने नशे की गिरफ्त में आए लोगों को नशा छोड़ने के उपाय बताए। डा. गौरव सिंह ने बताया कि मादक पदार्थ सेवन से घर-परिवार तथा समूचे समाज पर कई रूपों में दुष्प्रभाव पड़ता है। मादक द्रव्य दुरुपयोग के पीछे पश्चिमी अंधानुकरण और मित्र समूह का दबाव प्रमुख कारण होते हैं।

डा. सिंह ने कहा कि नशा लत नहीं एक बीमारी है। नशे की चपेट में आकर न केवल व्यक्ति का जीवन अंधकारमय हो जाता है बल्कि उस शख्स के परिवार को भी इसका खामियाजा भुगतना पड़ता है। चिन्ता की बात तो यह है कि आज युवा न केवल मादक पदार्थों का सेवन कर रहे हैं बल्कि इसकी तस्करी में भी शामिल हैं।

डा. श्वेता चौहान बताती हैं कि KD मेडिकल कालेज-हास्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर में नशामुक्ति की दिशा में सक्रियता से काम हो रहा है। यहां अब तक सैकड़ों लोगों को नशामुक्ति से छुटकारा दिलाया जा चुका है। नशे की गिरफ्त में आ चुके लगभग एक दर्जन लोग यहां अभी भी उपचार करा रहे हैं।

अंतर्राष्ट्रीय मादक पदार्थ सेवन और तस्करी निरोध दिवस पर नशे की गिरफ्त में आए लोगों तथा उनके परिवारीजनों ने बताया कि मथुरा जिले के अधिकांश मेडिकल स्टोरों में मादक पदार्थ धड़ल्ले से बेचे जा रहे हैं। इन पदार्थों को बालिग ही नाबालिग बच्चा भी आसानी से खरीद सकता है। नाम न छापने की शर्त पर लम्बे समय से ड्रग्स का सेवन और इंजेक्शन ले रहे एक युवक ने बताया कि मेडिकल स्टोरों पर यदि सख्ती कर दी जाए तो इस समस्या पर काफी हद तक रोक लगाई जा सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »